Tag Archives: Hindi Short Stories

Hindi Short Stories For Class 1 मित्र सदा अपने जैसा होना चाहिए Part1

 Hindi Short Stories मगध देश के जंगलों में एक कोवा और हिरण बहुत पुराने मित्र रहते थे इन दोनों में इतना प्यार था कि उनके प्यार को देखकर जंगल के दूसरे जानवर भी हैरान होते और उनसे ईर्ष्या करते

एक बार एक गीदड़ उस जंगल में घूमता हुआ निकला तो उनकी नजर उस हिरण पर पड़ गई

Hindi Short Stories For Class 1

आहा क्या पला हुआ हिरण है यदि इसका मांस खाने को मिल जाए तो आनंद आ जाए बस अब में इसे पाने का पूरा प्रयत्न करूंगा

ऐसा सोच कर वह गीदड़ हिरण के पास गया Hindi Short Stories

उसने यह निर्णय कर लिया था कि मैं सबसे पहले इस पर विश्वास बेठाऊंगा फिर काबू में लाऊंगा

भैया हिरण नमस्कार कहो आनंद मंगल तो है ना ?

हिरण ने गीदड़ को बड़े ध्यान से देखा और फिर कुछ देर तक सोचता रहा जैसे उसे पहचानने का प्रयतन कर रहा हो

काफी देर के पश्चात हिरण बोला Hindi Short Stories

भैया आप कौन हैं मैंने तुम्हें पहचाना नहीं

hindi story for class 2

hindi story for class 2 with moral

भैया मैं एक गीदड़ हूं इधर ही रहता हूं क्योंकि मेरा इस जंगल में कोई मित्र नहीं है इसलिए अधिक चिंतित रहता हूं यदि तुम मेरे मित्र बन जाओ तो मुझे खुशी होगी क्योंकि अकेले प्राणी का कोई जीवन नहीं होता

चलो यदि तुम्हारी यही इच्छा है तो ठीक है आज से हम दोनों मित्रता के धागे में बंध गए

उन दोनों के जीवन का एक नया दौर आरंभ हो गया दिन भर में वह इकट्ठे घूमते रहे Hindi Short Stories

जैसे ही रात हुई तो हिरण अपने घर की ओर जाने लगा तो गीदड़ भी उसी के साथ चल पड़ा हिरण एक बड के बड़े वृक्ष के साथ ही रहता था

वृक्ष पर ही एक कोवा अपने अपने घोंसले में रहता था इसलिए हिरण के साथ उसकी काफी पुरानी मित्रता चली आ रही थी

कौवे ने अपने मित्र हिरण के साथ गीदड़ को आते देखा तो हैरान होकर पूछने लगा Hindi Short Stories

अरे मित्र इसे कहां से ले आए कौन है यह?

मित्र यह गीदड़ है जो आज से हमारा मित्र बन गया है इसीलिए यह मेरे साथ चला आया है

हिरण  भाई किसी भी राहा चलते प्राणी से इतनी जल्दी मित्रता नहीं कर लेनी चाहिए इसका परिणाम अच्छा नहीं होता फिर बुद्धिमानों ने कहा है जिसका कुल सील कुछ भी पता ना हो उसे कभी भी अपने पास नहीं रखना चाहिए इसी प्रकार एक एक बार एक उदबिलाव के अपराध में बेगुनाह बुढा गीध मारा गया था

कोए के मुंह से यह सुनकर हिरण और गीदड़ ने पूछा वह कैसे जरा हमें भी तो विस्तार से बताओ

इस hindi story का अगला भाग पढ़े part 2

hindi story for class 2,hindi short stories for class 1,hindi short stories for class 1,hindi story for class 2 with moral,कोए हिरण गीदड़ की कहानी Part 1