Category Archives: personal development

इज्जत करे इज्जत मिले inspirational stories in hindi

Inspirational word

munshi premchand stories in hindi
 

inspiring stories in hindi

 
hindi kahani तो आपने काफी पढ़ी होंगी और हर बार कुछ नया सिखने को मिला होगा इस हिंदी कहानी को भी मैने इसी उदेश्य से डाला है की आपके जीवन में कुछ परिवर्तन आए 
 
एक गांव में दो रईस रहा करते थे। उनमें से एक तो बड़े मालदार-यहाँ तक कि दस-बीस गाँव और करोडों के मालिक थे और दूसरे साहाब के पास किसी गाव में सिर्फ कुछ हिस्सा था।
 
वहि मालदार साहब को सदैव यह चेष्ठा रहती की लोग पहिले हमसे दुआ, बंदी, सलाम करें। इसलिए आप गाल फुलाए जैसे रहते थे। 
 
कभी अपने आप किसी दूसरे से हाथ जोड़ प्रणाम नहीं किया करते थे और न बैठने-उठने में ही ‘ आइय , ‘पधारिए’ कहते थे बल्कि जहाँ बैठे होते थे वहीं कुर्सी या आराम-कुर्सी पर बैठे रहते थे। आस पास चारपाइयाँ पडी रहती थी , 
 
उन पर आने वाले की तबीयत चाहै तो बैठ जाये और तबीयत चाहे चला जाये! इतना ही नहीं; वरन दो-चार आदमियों के बैठे रहने पर भी घर से मिठाई मंगवाई या कोई और वस्तु आई, तो और किसी से पूछना-पाछना नहीं । 
 
आप ही खाने लगते थे यही दशा आप की पान-पत्ते और इलायची में रहती थी। पास के बैठने वाले मुंह ताका करते थे और आप पान, इलायची मुंह में भरे बड़े शोक से बातचीत किया करते। यही दशा इनको अपनी रियासत से बाहर जाने पर भी साथ के आदमियों से या अन्यो से भी रहा करती थी।
 
दूसरे साहब जो इनके सामने कुछ भी नहीँ थे, और केवल एक गांव के कुछ हिस्सेदार ही थे, उनकी यह दशा थी कि सबसे प्रथम अभिवादन करते। 
 
”अपनी शक्ति भर कभी दूसरे को यह मौका न देते थे कि वह प्रथम अभिवादन करे। यों धोखे से चाहे कोई प्रथम भले ही कर ले। दूसरे को देखते ही उठ पड़ते थे और अपने से उच्च आसन दिया करते थे। पर फिर भी लोग जो जैसा होता था वैसा ही बैठा करते थे। 
 
इसके अतिरिक्त कभी किसी वस्तु की एकाएकी मांगने की चेष्टा नहीं करते थे, किन्तु यह औरों को खिला-पिला देते थे और आप वैसे ही रह जाते थे।
 
दूसरे के दुख पर जहॉ वह किसी के दरवाजे नहीं जानते थे, वहीं से बिना बुलाए ही दुखी के दरवाजे प्रत्येक दुखी – सुखी के दुख सुख में शामिल हुआ करते थे  परिणाम यह निकला कि उन बडे मालदार की की माँ मर गई, और उनके यहाँ एक आदमी भी न पहुँचा, विशेषकर उनकी प्रजा भी न गई। केवल नौकर और आप थे 
 
और इस एक ग्राम के हिस्सेवाले की स्त्री के मरने के समय पाँच सौ आदमी साथ थे केवल एक काम यही नहीं, बल्कि उस एक ग्राम के हिस्सेवाले के यहाँ यदि कुछ भी काम होता था, तो सैकडों आदमी जमा हो जाते थे 
 
और दूसरी तरफ उस बड़े रहिस के यंहा कोई झाँकने भी ना जाता था। 
 
और एक ग्राम के हिस्सेदार की लोग सर्वथा हर प्रकार से इज्जत किया करते थे और इनको देखकर उठते भी न थे। निदान इन्होंने अपनी यह बेइज्जती देख सैंकडों पर झूठे मुकदमे, तहसील-वसूली में सख्ती आदि हर प्रकार के प्रपंच रचे, परन्तु लोगों ने इनकी इज्जत न की।
 
शिक्षा – अगर तुम अपनी इज्जत कराना चाहते हो, तो पहले दूसरों की इज्जत करना शुरू करो, क्योंकि दुनिया आइना के समान है। यथा, आइने के सामने जैसी शकल होगी उसमें वैसी ही शकल दिखेगी इसी तरहां दुनिया के साथ जैसा बर्ताव आप करेंगे दुनिया भी आपके साथ वैसा ही बर्ताव करेगी।  
 
keywords: munshi premchand stories in hindipremchand ki kahaniya in hindi, short stories in hindi
 
इन्हें भी पढ़ें 
 

सफलता की कुंजी inspirational story in hindi

 

Motivational story in hindi

Secret To Success story in hindiएक सेठजी की अपनी दुकान थी। बही मेहनत से अपने कारोबार को बढाया। अच्छी-खासी कमाई भी होती थी।
सेठजी का इकलौता पुत्र था। लेकिन वह माहाआलसी , कामचोर और निखट्टू भी था। सेठजी के लाख समझाने पर भी वह काम न करता था। सेठजी को अपने कारोबार को देख चिन्ता होती रहती की इसको यह कैसे सम्भाल पाएगा। आखिरकार सेठजी के मन में एक idea आया।
 
 
सेठजी ने अपने लड़के को कहा, “बेटे आज अपनी मेहनत का कुछ कमाकर लाओ तभी भोजन मिलेगा, अन्यथा नहीं। सेठजी ने लडके को सुधारने का अच्छा तरीका ढूंडा था। लड़का सेठजी की बात सुन कर परेशान हो गया और सोचने लगा कि अब क्या किया जाए? वह सीधे अपनी माताजी ’के पास गया गिड़गिड़ाने लगा कि मुझे एक रुपया चाहिए। माताजी ने उसे एक रुपया दे दिया। शाम को जब सेठजी ने आज की Income मांगी तो लडके ने एक रुपया उसके हाथ पर रख दिया। पुराने जमाने में एक रुपए की भी बहुत कीमत होती थी। लेकिन सेठजी
की नजर लडके के कार्य पर थी कि वह क्या करता है। वह सब जान गए। सेठजी ने आदेश दिया जा अब इसे कुए में डाल दे लंड़का दौड़कर गया और रुपया कूँए में फेक दिया। लड़के ने सोचा की बला टल गई।
 
सेठजी ने दूसरे दिन फिर लडके को बुलाया और कहा आज फिर अपनी मेहनत का कुछ कमाकर लाओ, तभी आपको भोजन मिलेगा। ” लडके ने सोचा आज फिर वही मुसीबता उसका स्वभाव था कामचोर, आलसी, कार्य वह करना नहीं चाहता था। आज़ वह बड़ी बहन के सामने जाकर एक रुपये के लिए रोने… धोने लगा। बहन को भाई पर दया आईं और एक रुपया उसे दे दिया। लड़के की परेशानी दूर हो गयी। शाम को सेठजी ने उसकी कमाई मांगी। उसने आज फिर उसे एक रुपया थमा दिया दिया। सेठजी बुद्धिमान् थे, वह जानते थे कि यह रुपया कहाँ से लाया है। क्योंकि कल मां से रुपया लाए जाने पर सेठजी ने उसकी माँ को मायके भेज दिया था। अब वह बहन से लाया है।
 
aap ye hindi story bharatyogi.net pr padh rahe haen
सेठजी ने आदेश दिया जाओ इसे भी उसी कूँए में डाल आ’ओँ। लडका तेजी से गया और रुपया डाल आया। तत्पश्चात उसे भोजन मिला। लेकिन सेठजी ने अपनी बेटी को उसकी ससुराल भेज दिया। तीसरे दिन सेठजी ने फिर लडके को बुलाया और कहा आज फिर अपनी मेहनत का कुछ कमा कर लाओ। ” लड़का आज बहुत परेशान था। क्योकि आज उसे रुपया देनेवाली उसकी माँ, बहन घर पर न थी। आज़ उसकी कौन सुनता। उसके पडौसी सभी जानते थे वह निखटू है। जब रुपया मिलने की कोई उम्मीद नहीं रही तो वह चला बाजार में काम दूँढने। बडी मुश्किल से एक काम मिला।
 
लालाजी ने दिनभर भी कार्य करने के बाद एक चवन्नी देने को कहा। लड़के ने इसे  स्वीकार किया दिन भर वह बोरियाँ ढोता रहा। उसकी कमर लचक गई। सीधी भी न कर सकता था। पहली बार मेहनत करने के कारण वह थक कर चूर हो चुका था। चलने की शक्ति भी उसमें अब न रही।
 
कठिन व कठोर मेहनत के बाद वह चवन्नी लेकर घर पहुँचा। सेठजी ने देखा कि लडके का चेहरा कुछ और ही बता रहा था। उसने आज की मेहनत की कमाई मांगी। लड़के ने हाथ पर एक चवन्नी रख दी। सेठजी समझदार थे तुरन्त बोले “जाओ इसे भी कूँए में डाल दो।” यह सुनते ही लड़के की आँखे क्रोध से लाल हो गई और बोले, “मैरी दिन भर कमर लचकी रही, चलने की भी शक्ति न रही श्री, कितनी कठिन परिश्रम करने के बाद मैं यह चवन्नी लाया हूँ। आप कह रहे हैं कि इसे कूँए में डाल दो।”
 
सेठजी ने कहा, “कल तो एक रुपया कूँए में डाला था, आज तो केवल एक चवन्नी है लडका बोला “पिताजी, यह चवन्नी एक रुपए से कहीं ज्यादा कीमती है क्योंकि मैंने यह ‘जान लिया कि बिना मेहनत की कमाई ‘के एक रुपए के फैकने से मुझें कोई कष्ट न हुआ जबकि चवन्नी के डालने में कष्ट अनुभव कर रहा हू।
 
सेठजी ने लड़के की कमर थपथपाई। उसे अपने गले से लगा लिया और अपनी दूकान का कारोबार उसे सौंप दिया और कहा, ” आज तुमने परिश्रम के फल को जान लिया जो मीठा होता है। परिश्रम ही सफलता की कुंजी है। अब तुम यह कार्य कर सकोगे। बस, यही शिक्षा मैं तुम्हे देना चाहता था।
 
शिक्षा – ये hindi story पढ़ कर हमे शिक्षा मिलती है की मनुष्य को सफलता दिलाने वाला उपाय पुरुषार्थ हैं। जो मनुष्य पुरुषार्थ नही करता, वह पिछड जाता है। निठल्ले व्यक्ति का जीवन व्यर्थ होता है।
 

make money business ideas in hindi पैसा कमाने के तरीके

Make money ideas hindi me

Make money ideas hindi me

 
पैसा कमाने के तरीके नेट पर खूब सर्च होते हैं make money business ideas और आज सभी इस पैसे (make money) के लिय भाग दोड कर रहें हैं आखिर करें भी क्यूँ नही पैसे (make money) के बिना आज कल कुछ होता भी तो नही हैं।
 
लेकिन आज ज्यादा तर लोगों के पास business ideas ना के बराबर हैं  पैसे (money) की जितनी आवश्कता है उतना ही इसे प्राप्त करने के लिए सही जानकारी (business ideas) का अभाव भी है। इसे हासिल करने के लिए 95% लोगों को मेहनत भी खूब करनी पडती है और ज्यादातर तो सिर्फ पूरी जिन्दगी पैसा कमाने के (make money) लिए मेहनत करते रह जाते हैं और ठीक से कोई business ideas भी नही खोज पाते।
 
आप देखते ही होंगे की  आप लोग पैसा कमाने (make money) के लिय कितनी मेहनत कर रहें हैं और सबसे बड़ा सवाल क्या जी तोड़ मेहनत करने के बाद सभी अपनी इच्छा अनुसार पैसा कमा (make money) लेते हैं।
 
ये तो निश्चित है की महंगाई एसे ही बढती रहेगी इसको तो कोई नही रोक सकता हमे ही समय के साथ साथ ढलना होगा आखिर एसा क्या किया जाए की पैसे (money) की जरूरत भी पूरी हो जाए और काफी पैसा हमें बच भी जाए जिससे हमें अपना भविष्य उज्वल दिखाई दे और हंम निश्चिंत हो जाएं।
 

इस समस्या का हल

इसका हल ये है की हमें सही business ideas का पता होना चाहिय और फिर पैसा कमाने (make money) के लिए अपना बिज़नस शुरू करना चाहिय लेकिन काफी सारे व्येक्तियों की समस्या ये है की उन्हें business ideas की सही जानकारी नही हैं। आखिर एसा कोनसा बिजनेस किया जाए की मुनाफा ही मुनाफा हो घाटे का डर ही ना हो और लोगों को जो भी आप प्रोडक्ट दें उसकी डिमांड खुद ही बढ़ जाए ये तो तभी हो सकता है जब आपके प्रोडक्ट में दम हो।
 
बिजनेस (business) करने में तभी मजा आता है जब हमारे प्रोडक्ट में दम हो और जो एक बार इस्तेमाल करे तो खुद ही उसकी इच्छा हो जाए दूसरों को भी बताने की इस तरीके से आपका बिजनेस (business) बढेगा और वो भी खुद बा खुद ही। आपको सिर्फ एक बार मेहनत करनी होगी उसके बाद आपका प्रोडक्ट ही मेहनत करेगा पैसा कमाने में (make money )।
 
अब सवाल ये उठता है की वो कोनसा बिजनेस (business ideas ) है जिसकी में यंहा पर बात कर राहा हूँ अब बात को ज्यादा ना खिंच कर सीधे मुद्दे की बात पर आ जाता हूँ।
 
में यंहा बात कर राहा हूँ नेटवर्किंग बिजनेस (networking business ideas) की जिसमें पैसा कमाने (make money ) की सबसे ज्यादा सम्भावना है। लेकिन इसमें सावधान भी रहने की आवश्कता है क्योंकि काफी सारी कम्पनियां (networking companies) धोखा दे जाती हैं। और आपको कुछ भी नही मिलता और पैसा कमाना (make money ) मुस्किल हो जाता है पर कम्पनी खूब पैसा कमा (make money) ले जाती हैं।
 
झूट बोलकर किया जाने वाला काम काम ही नही है ये धोखे बाजी है (make money) ज्यादातर नेटवर्किंग कम्पनियों में सिर्फ और सिर्फ झूट ही झूट बोला जाता है और सारा कारोबार सिर्फ झूट पर ही चलता है। अब आप ही सोचिये जो व्येक्ती झूट बोल कर पैसा कमाता है
 
क्या वो कभी उस पैसे का भोग कर पाता है। इस सवाल का जवाब आपको अपने चारों तरफ देखने से मिल जाएगा आपके आस पास ही काफी व्येक्ती एसे होंगे जो झूट और बेईमानी से पैसा कमाते हैं पर शान्ति से कभी जी नही पाते। एसे व्येक्तियों को रोग और कलह हमेसा घेरे रखते हैं।
 
अब वो समय गया जब आपको अधिक पैसा लगाना पड़ता था अपना बिजनेस करने के लिए अब सिर्फ आपको जानकारी सही होनी चाहिय।
 
यदि आपको सही मार्ग दर्शक मिल जाए तो आपको सही रास्ता भी मिल जाएगा नेटवर्किंग में कुछ सिर्फ कुछ कम्पनियां एसी हैं जन्हा पर आपको झूट नही बोलना पड़ता जानते हैं क्यूँ? क्योंकि उनके प्रोडक्ट होते ही दमदार हैं,100% व्येक्ती संतुष्ट होते हैं, उनके प्रोडक्ट को इस्तेमाल करके।
 
यदि आप अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं और अच्छी और भरोसेमंद कम्पनी के बारे में जानना चाहते हैं तो आप निचे कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट करके पूछ सकते हैं।
 
हमारे नए लेख प्राप्त करने के लिय हमारा फेसबुक पेज जरुर लाइक करें https://www.facebook.com/maabharti
 
जरा इसे भी पढ़ें 

6 बाते जो आपका भविष्य बनादेंगी

Improve your future

6 practical Ways, / personal development, 
1. कल्पना करें कि हर समस्या (PROBLEM) का समाधान (Solution) है, हर सीमा से उबरने का उपाय है और कंही कोई सीमा नहीं है। कल्पना करें कि आप अपने लिए जो भी लक्ष्य तय करेंगे, उसे पा सकते है । तब आप कौन सा काम करेंगे हैं ?
2. “भविष्य (Future) से वर्तमान तक की उल्टी सोच” का अभ्यास करें । आज से पांच साल आगे पहुँच जाएँ और पलटकर वर्त्तमान को देखें । किन कामों की वजह से आपका संसार आदर्श बना होगा ?
3. कल्पना करें कि आपकी आर्थिक स्थिति हर दृष्टि से आदर्श हो । आप कितना कमाएंगे?  आपकी नेट वर्थ क्तिनी होगी? इन लक्ष्यों को साकार काने के लिए आप आज से ही कोंसे काम उठा सकते हें ?
4. कल्पना (Imagine) करें कि ‘आपका परिवार” (Your Family) और पारिवारिक जीवन आदर्श है। यह कैसा दिखेगा ? इसे आदर्श बनाने के लिए आपको आज से ही क्या करना चाहिए या क्या नहीं करना चाहिए ?
5. अपने आदर्श कैलेंडर की रूपरेखा बनाएँ। जनवरी से दिसंबर तक की योजना इस तरह बनाएं, जैसे कोई सीमा या बंधन न हो । इसके लिए आपको आज से क्या क्या बदलाव करने होंगे है ?
6. कल्पना करें कि आपकी सेहत और फिटनेस का स्तर हर मायने में आदर्श है । आज से आप ऐसे कौन से काम करसकते हैं, जिनसे आपका सपना हकीकत में बदल जाए ?
आंम इन्सान की संभावना उस महासागर की तरह हे, जिसमें यात्रा  नही की गई हे, उस नए महादविप की तरह हे, जिसे खोजा नही गया हे, सम्भावनाओं की पूरी दुनिया मुक्त होने और महान काम  करने के लिए मार्गदर्शन का इंतजार कर रही हे,
दोस्तों उमीद हे की ये लेख आपके किसी काम का साबित होगा और आप अपने भविष्य को बेहतर बना पाएंगे यदि आपको ये लेख पसंद आया तो आप हमारा imail subscription जरुर लें जिससे आपको भारत योगी के नए लेख तुरंत मिल सकें,

Identify your special qualities

पने खास गुणों को पहचानें
अपने ख़ास गुणों को पहचानने और तय करने के आठ तरीके  हैं, इससे आपको ये पता लगजाएगा की आप में जन्म से ही कुछ अलग करने की काबलियत हे,

1. आप हमेशा उस काम में सर्वश्रेष्ठ और सबसे सुखी होंगे, जिसे करना आपको पसंद हे, यदि आप आर्थिक दृष्टी से शक्षम हो तो, आप उसे बिना Sallery  ( तनख्वा ) के भी करना चाहेंगे, वो चीज आप के सर्वश्रेष्ठ रूप को बाहर निकालती हे, और वो खास काम करते हुए आपको बहुत ज्यादा आनन्द मिलता हे,

2. आप इसे इस तरह करते हें आपमें इस शेत्र में स्वाभाविक काबलियत नजर आती हे,

3.  इसी गुण से जीवन में अब तक आपको ज्यादातर सफलता और ख़ुशी मिली हे, बचपन से ही इसे करना आपको पसंद था और इसकी वजह से आपको सबसे बड़े पुरुस्कार और प्रशंशा मिली हे,

4. यह एसी चीज हे, जिसे सीखना और करना आपके लिए आसान था, इसे सीखना इतना आसन था की आप भूल ही चुके हें की इसे आपने कब और कहाँ सिखा था, आपने तो एक दिन वह काम खुद को आसानी से करते हुए पाया,

5. इसमें आपका मन लगता हे, यह आपको आकर्षित और मंत्रमुग्ध करता हे, आप इसके बारे में सोचना पसंद करते हें, पढना पसंद करते हें बाते करना पसंद करते हें, और इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा पता लगाते हें, यह आपको उसी तरहां आकर्षित करता हे जिस तरहां शमा पतंगे को आकर्षित करती हे,

6. आप इसके बारे में सीखना पसंद करते हें, और आप जिन्दगी भर इसमें बेहतर बनते जाते हें, आपमें इस शेत्र में सच मुच कुछ ख़ास करने की गहरी इच्छा होती हे,

7. जब आप इसे करते हें, तो वक्त ठहर सा जाता हे, आपमें बिना खाए या सोये लम्बे समय तक इसे करने का गुण होता हे,

8. जिस काम के लिए आप सबसे ज्यादा उपयुक्त हें, उस शेत्र के विशेषज्ञों की आप सच मुच प्रशंशा करते हें, आप उनके जैसा बनना चाहते हें, उनके आस पास रहना चाहते हें, और हर तरह से उनका अनुसरण करना चाहते हें, 

अगर उपर दिए गये वर्णन किसी चीज पर लागू होते हें, जो आप इस वक्त कर रहे हें, या जिसे आप अतीत में कर चुके हें, तो यही वो काम – आपके “ह्रदये” की इच्छा हे जिसे करने के लिए आपको इस पृथ्वी पर भेजा गया हे,

best networking business ideas for success

Networking Business plan In Hindi

नेटवर्किंग business में कामयाब होने के लिए सबसे महत्वपूर्ण plans 
यंहा पर Networking ( नेटवर्किंग ) की सबसे अच्छी रणनीति बताई जा रही हे, सन्गठन की कोई महत्वपूर्ण कमेटी चुनें और उसमें अपनी इच्छा से काम करने की पहल करें, एसी कमेटी चुनें, जिसके सदस्यों से आप जान पहचान बढ़ाना चाहते हों, एसी गतिविधियों वाली कमेटी चुनें, जिसकी बदोलत आप महत्वपूर्ण लोगों के सम्पर्क में आयें, सन्गठन के भीतर भी और बाहर भी

एक बार जब आप कमेटी में शामिल हो जाएँ, तो स्वेच्छा से काम मांगने की पहल करें, हालांकि इस काम के पैसे नही मिलेंगे, लेकिन इससे आपको एसे महत्वपूर्ण लोगों के साथ काम करने का मोका मिलेगा, जो भविष्य में किसी समय आपके कैरियर में आपकी मदद कर सकते हें.

America अमेरिका में 85 प्रतिशत नए पद मोखिक अनुशंशा और व्येक्तिगत सम्पर्क से भरे जाते हें, आप अपने Business (उधोग) में जितने ज्यादा लोगों को जानते हैं और उनके साथ काम करते हैं, सही समय आने पर आपके लिए अवसरों के उतने ही ज्यादा दरवाजे खुल जाएंगे,

सही लोगों से जुड़ें

. अपने काम धंधे और व्येव्सायिक जीवन के सबसे महत्वपूर्ण लोगों की सूचि बनाएं, हर व्येक्ती की मदद करने की योजना बनाएं,

. अपने व्येक्तिगत जीवन के सबसे महत्वपूर्ण लोगों की सूचि बनाएं और तय करें की आप उनके साथ कैसे सम्बंध चाहते हैं और इसके लिए आपको क्या करना होगा,

. अपने समुदाय और शेत्र के एसे समूहों और संगठनों को पहचानें, जिनमें शामिल होने से आपको मदद मिलेगी, आज ही फ़ोन करें और अगली मीटिंग में हिस्सा लें,


. अपने समुदाय या शेत्र के शीर्ष लोगों की सूचि बनाएं और उनसे जान पहचान बढ़ाने की योजना बनाएं,

. अपने सामाजिक और व्येवसायिक दायरे का विस्तार करने का एक भी अवसर ना चुकें, लोगों को Letter (पत्र), Card (कार्ड), Fax (फैक्स) और email भेजें, हर मोके पर पुल बनाएं,

6 habits जो बनादेंगी आपको दुनिया का सबसे कामयाब इन्सान

अपनी संभावना का ताला खोलें 

1. कल्पना करें की आप अपने लिए जो भी लक्ष्य तय करेंगें, आपमें उसे हासिल करने की जन्मजात योग्यता       हे, आप सचमुच क्या बनना या पाना और करना चाहते हें?

2. वे कोन सी गतिविधियाँ हें, जो जिन्दगी में आपको सार्थकता और उददेश्ये का सबसे ज्यादा एहसास दिलाती     हे?

3. आज ही अपने व्येक्तिग्त और कार्य जीवन की और देखें और पहचानें की आपकी सोच किस तरह आपके         संसार को बनाती हे, आपको क्या बदलना चाहिए या आप क्या-क्या बदल सकते हे?

4. आप ज्यादातर वक्त किसके बारे में सोचते और बात करते हें – मनचाही चीजों के बारे में या अनचाही चीजों     के बारे में?

5. आप अपने सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य को हासिल करने के लिए कोन सी कीमत चुकायेंगे?

6. उपर दिए सवालों के जवाबों के आधार पर वह कोन सा एक काम हे, जो आपको फोरन शुरू कर देना चाहिए?

खुश रहने के 5 तरीके

Happyness ‘खुशी उत्साह जीवन में ना हो तो हमें नकारात्मक सोच घेर लेती हे, आखिर खुश रहना इतना जरूरी क्यूँ हे, क्योंकि यदि आप दुखी हें तो नकारात्मक सोचेंगे, और ये नकारात्मकता आपके जीवन को बर्बाद करदेगी, आप हमेशा हारते ही चले जाएंगे, यदि आप खुश रहते हें तो आपका जीवन खुशियों से भर जायेगा और आप सदेव ही कामयाब होंगे, दोस्तों आज में आपको इस Article में सदेव Happy (खुश) रहने के तरीके बताऊंगा उमीद करता हूँ ये आपके लिए healpfull होंगे,



1:- Positive thinking ( सकारात्मक सोंच )

दोस्तों यदि आप सदा खुश रहना चाहते हें तो अपनी सोंच को सकारात्मक बनाएं, हमेशा अच्छा सोचें नकारात्मक कभी न सोचें, जेसे- ये हो जायेगा तो क्या होगा, वो हो गया तो क्या होगा, मेरा ये काम नही बना तो मेरा नुकसान हो जायेगा, में ये काम कर तो रहा हूँ कंही में इसमें सफल न हुआ तो, दोस्तों एसी सोच न रखें इस प्रकार की सोंच से आपको सिर्फ और सिर्फ तनाव ही हो सकता हे, इसलिए Positive (सकारात्मक) सोचें और खुश रहें,



2:- Learn from the children ( बच्चों से सीखें )

जी हाँ दोस्तों बच्चे खुश रहने के मामले में हमारे गुरु हें, ये कला हमें छोटे छोटे बच्चों से सिखने को मिलजाएगी, बच्चों को आपने देखा होगा सदेव खुश रहते हें, बड़ों की तरहां ज्यादा सोचते नही हें, हमारी तरहां उनके दीमाग में विचारों का कचरा नही भरा होता इसलिए बच्चे इतने सहज और खुश रहते हें, यदि आप दुखी हें तो बच्चों के साथ खेलें फिर देखें मन को कितनी ख़ुशी मिलती हे, और ज्यादा न सोचें फल तो आपको अपनी मेहनत के अनुसार जरुर मिलेगा चिंता करने से कुछ नही होता चिता और चिंता में सिर्फ एक बिंदी का अंतर हे इसलिए सदा खुश रहें,


3:- Learn Meditation ( ध्यान करना सीखें )
Meditation  (ध्यान) सब रोगों की एक दवा हे, यदि आप ध्यान करना सिख्लें तो आप present (वर्तमान) में रहना सिख लेंगे, और यदि आपने वर्तमान में रहना सिख लिया तो आप की ख़ुशी को कभी कोई छीन ही नही सकता, ध्यान अपने में सम्पूर्ण हें, जब आपके विचार खत्म होंगें जब आप निर्विचार होंगे तो आप उस शण ध्यान में होंगे, तब आप उस परमानन्द की महक से भर जाएंगे,






4:- See The Cows Eyes ( गौ माता की आँखों में देखें )
दोस्तों आपमें से काफी लोगों को ये अजीब लगेगा लेकिन बहूत से आदमी पहले ही ये बात जानते होंगे, आप कभी देसी गाएं को देखें गाएं की आँखों में देखें तो आपको आँखों में करुणा नजर आएगी, प्यार नजर आएगा, और आपको काफी शांति मिलेगी, जब भी आपको तनाव हो मन दुखी हो तो गाएं की आँखों में देखें , पीठ पर हाथ फेरें फिर देखें करिश्मा गो माता का आपको काफी शांति मिलेगी,

5:- सेवा भाव रखें 

दोस्तों यदि आप सदेव खुश रहना चाहते हें तो अपने मन में सेवा भाव लायें, जब आप सेवा करते हें जेसे गुरूद्वारे में जाकर, मन्दिर में जाकर, गरीबों को भोजन कपड़ा आदि जिव जन्तुओं की रक्षा आदि अपने सामर्थ्ये के अनुसार प्रत्येक व्येक्ती को सेवा करनी चाहिए, सेवा करने के बाद आपको एक असीम शांति हाशिल होती हे, आपका मन गद गद हो जाता हे दोस्तों यकीं मानिये में इसको शब्दों में नही बता सकता ये तो आपको अनुभव करके देखना होगा 

जरा इसे भी देखें- Self confidence बढ़ाने के 5 तरीके 

मित्रों यदि आपको ये लेख पसंद आया तो आप हमारा इमेल सब्सक्रिप्शन जरुर लें जिससे आपको हमारे नए लेख समय पर मिलते रहेंगे 

self confidence बढ़ाने के 5 तरीके

आत्मविश्वास बढाने के 5 तरीके

सुख, समर्धि, शांति, को हासिल करने में सफलता और कामयाबी को हासिल करने में self-confidence का होना एक important quality हे, जो भी व्येक्ती कामयाब हो चुके हें उसमें आपको ये confidence देखने को मिल जायेगा, आप किसी कामयाब business man को देख लिजिये चाहे किसी film star को देखलिजिये आपको अपने आस पास एसे अनेकों लोग मिलजायेंगे जिनमें आत्मविश्वाश अलग ही दिख जायेगा, आत्मविश्वाश व्येक्ती में जरुर होना चाहिए जिससे वो कामयाब तो होगा ही और मुश्किलों को भी आसानी से हल करदेगा, आज में आपको अपने इस Article में 5 एसी बाते बताऊंगा जो आपके आत्मविश्वाश को बढ़ाने में कारगर सिद्ध होंगी,

 
 
 
1:- Improve your Dressing sense
दोस्तों हमारा पहनावा हमारे आत्मविश्वाश पर काफी असर डालता हे, आपने भी ये बात कभी न कभी महसूस की होगी की जब भी आप अच्छे और साफ़ कपड़े पहनते हें तो आपमें एक अलग ही energy आजाती हे, ये बात मेने तो काफी बार महसूस की हे
यदि आप अच्छे से तयार होते हें तो सामने वाले पर भी काफी अच्छा प्रभाव पड़ता हे, दोस्तों याद रखें जब भी आप किसी meating या interview में जा रहे हें तो simple dress पहने, ज्यादा भडकीला ना पहने, यकीं मानिये यदि आप अपने पहनावे को लेकर इन छोटी छोटी बातों का ध्यान रखेंगे तो आपके confidence का level और ऊपर होगा,
 
2:- Focus on your breathing (सांसों पर ध्यान दें)
जी हाँ दोस्तों हमारी साँसे हमारा confidence (आत्मविश्वाश ) बढ़ा सकती हें, जब भी आपको घबराहट हो तो आप नाक से लम्बा गहरा सांस लें फिर मुह से छोड़ दें, पहले लम्बी गहरी साँस लें फिर पूरी सांस बहार निकाल दें एसा 10 बार करें और फिर देखें क्या होता हे, ये विधि आप इस्तेमाल कर सकते हें जब भी आपको- घबराहट हो, तनाव हो, गुस्सा अधिक आता हो आदि 
 
3:- Improve your thinking skills (अपनी सोच को सुधारें)
जेसी आपकी सोच होगी वेसा ही आपका वर्तमान होता हे आपकी सोच आपके confidence को बढ़ाने में काफी योगदान देसक्ति हे, यदि आप हर समय नकारात्मक सोचते हें की में ये नही करसकता , में ये केसे करूंगा, पता नही ये हो भी पायेगा की नही, कंही में नाकामयाब न हो जाऊ यदि आपकी सोच एसी हे तो आप कामयाब नही होसकते , यदि आपकी सोच सकारात्मक हे जेसे- में ये जरुर करलूँगा , हां मुझे जरुर कामयाबी मिलेगी, हाँ मुझे तो कामयाब होना ही हे, दोस्तों कहने का मतलब ये हे की आप अपनी सोच को नकारात्मक न होने दें फिर चाहे परिस्थितियाँ आपके अनुकूल न भी हो आप जरुर कामयाब होंगे और meditation (ध्यान)आपके लिए काफी कारगर सिद्ध होगा 
 
4:- जिन कारणों से आत्मविश्वाश घटे वो काम बार बार करें 
जी हाँ दोस्तों ये बात सुनकर आपको अजीब लगेगा लेकिन ये सत्य हे हमें अपनी कमजोरी को अपनी ताकत बनाना चाहिए, ज्यादातर हम जिससे दूर भागते हें घबराते हें यदि वो हमारी कमजोरी हमारी ताकत बनजाये तो हमारा आत्म विश्वाश कभी कम नही होगा, जेसे बहूत से व्येक्ती घबराते हें – लोगों के सामने बोलने से, opposite sex के सामने घबराते हें, इस कमजोरी को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका ये हे की आप उस काम को बार बार करें जिससे आप घबराते हें बार बार उसे दोरहें, दोस्तों यकीन मानिये आपका किसी भी बात को लेकर घबराना खत्म हो जायेगा, आप जीतेंगे अपनी कमजोरियों को अपनी ताकत बनाकर,  
 
5:- गलतियों से घबराएँ नही 
दोस्तों एक एक गलती जो आपने की यदि आप उसपर ध्यान दें तो ये आपका सबसे अच्छा गुरु होगा, क्योंकि हमारी गलतियाँ हमे ये सिखलाती हे की हमने किधर कमी छोड़ी और यदि हम उस कमी को ध्यान से पहचान्लें तो फिर कामयाबी आपके कदम चूमेगी, और आप जरुर कामयाब होंगे कोई आपको नही रोक सकता, अच्चार्ये चाणक्य कहते हें अपनी गलतियों के बजाये दूसरों की गलतियों से सीखें तो जल्दी कामयाबी मिल सकती हे, किसी भी काम को करने से पहले अच्छे से अध्यन कर लें 
 
 
दोस्तों यदि आपको ये Article पसंद आया तो आप हमारा इमेल सब्सक्रिप्शन जरुर लें धन्येवाद:-