Category Archives: Chanakya

सम्पूर्ण चाणक्य नीति Chanakya Niti Quotes In Hindi For Success

Chanakya Niti In Hindi

chanakya niti चाणक्य नीति दोस्तों चाणक्य नीति एक ऐसी पुस्तक है एक ऐसी रचना है जो कि हमें काफी अच्छा जीवन जीने की सीख देती है आचार्य चाणक्य एक महान व्यक्ति थे इस आर्यवर्त भूमि के दोस्तों आचार्य चाणक्य ने इस पूरे भारतवर्ष को अखंड भारत बना दिया जो कि टूट रहा था कुछ मूर्ख राजाओं के कारण दोस्तों आचार्य चाणक्य ने जो चाणक्य नीति लिखी उस को जानकर आप अपना जीवन बदल सकते हैं और काफी कुछ नया सीख सकते हैं दोस्तों आज इस लेख के माध्यम से मैं अमित आर्य आपको चाणक्य नीति की कुछ अच्छी जानकारियां मैं आज आपको दूंगा दोस्तों चाणक्य नीति को आप अवश्य ही पढ़े मैंने नीचे लिंक दिया है   इस पुस्तक को आप जरुर पढ़िए तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं इस लेख को chanakya niti chanakya niti

  • आचार्य चाणक्य कहते हैं कि शरीर नाशवान है धन-संपत्ति भी हमेशा साथ रहने वाली नहीं है मृत्यु सदा सिरहाने खड़ी है अतः  धन धर्म का संचय धर्म का आचरण करना चाहिए

 

 

  • भोजन के लिए निमंत्रण ब्राह्मणों के लिए उत्सव की भांति है चरने के लिए नई ताजा घास की प्राप्ति होना गायों के लिए उत्सव के भाँती है पति का उत्साह से युक्त रहना ही पत्नियों के लिए उत्सव की भाती है और मेरे लिए भयंकर मार काट उत्सव की भाँती है 

 

  • जो व्यक्ति किसी दूसरे की स्त्री को माता की भांति पराए धन को मिट्टी के ढेले की भांति और समस्त प्राणियों को अपनी आत्मा की भांति देखता वह समझता है वस्तुतः वही ठीक-ठाक देखने वाला होता है

 

  • बिना  सोचे समझे अनाप शनाप व्यय  करने वाला सहायक ना होने पर भी लड़ने-झगड़ने वाला और सब वर्णों की स्त्रियों से सहवास करने वाला व्यक्ति शीघ्र ही नाश को प्राप्त होता है

 

  • विद्वान व्यक्ति को अपने आहार भोजन के बारे में अधिक सोच विचार नहीं करना चाहिए उसे तो केवल धर्म का ही चिंतन करना चाहिए क्योंकि मनुष्य का आहार तो उसके जन्म के साथ ही उत्पन्न हो जाता है

 

  • पानी की एक एक बूंद गिरने से घड़ा भर जाता है इसी तरह धीरे धीरे अभ्यास करने से सब विद्याओं की प्राप्ति हो जाती है तथा थोड़ा थोड़ा करके धर्म और धन का संचय भी हो जाता है

Chanakya’s Niti Darpan

  • अच्छे कार्यों को करते हुए व्यक्ति का एक मुहूर्त भर भी जीवित रहना अच्छा है परंतु  इही लोक और परलोक विरोधी दुष्कर्म करने वाले का तो कल्प भर जीवित रहना भी बेकार है

 

  • बीती हुई बात का शोक कभी नहीं किया जाना चाहिए और भविष्य में क्या होगा इसे सोच कर भी चिंता नहीं करनी चाहिए बुद्धिमान लोग वर्तमान काल के अनुसार कार्य में जुट जाते हैं

  

  • बुद्धिमान लोग सज्जन पुरुष और पिता यह स्वभाव से ही संतुष्ट रहने वाले होते हैं बंधु-बांधव खान पान से और पंडित गण मधुर वाणी से प्रसन्न होते हैं

Chanakya Niti Quotes In Hindi For Success

  • महात्माओं के चरित्र बड़े विचित्र ही होते हैं जिनके के समान मानते हैं किंतु उसके भार से नम्र हो जाते हैं

 

  • आचार्य चाणक्य कहते हैं कि भाग्य के सहारे रहने वालों का नाश हो जाता है ऐसा बताया गया है व्यक्ति को मुसीबत आने से पहले उससे बचने का हल सोच लेना चाहिए

 

  • आचार्य चाणक्य कहते हैं कि राजा के धार्मिक होने पर प्रजा धर्म परायण होती है राजा के पापी होने पर प्रजा पापी तथा राजा के उदासीन होने पर प्रजा उदासीन होती है  प्रजा राजा का अनुसरण करती है जैसा राजा होता है वैसी ही प्रजा भी हो जाती है

सम्पूर्ण चाणक्य नीति

  • दुष्ट व्यक्ति दूसरे के यस रूपी अग्नि से जलते हुए जब उस पद को प्राप्त करने में असमर्थ रहते हैं तब वे उस की निंदा करने में प्रवृत्त हो जाते हैं

Chanakya’s niti darpan, Chanakya neeti bengali, Chanakya neeti amazon

  • मानव के बंधन और मोक्ष का कारण केवल मन ही है विषयों में फंसा हुआ मन व्यक्ति के बंधन का कारण होता है और विषय वासनाओं से शून्य मन व्यक्ति के मोक्ष का कारण होता है

 

  • जैसे हजारों गायों में भी बछड़ा अपनी माता को पहचान कर उसी के पास जाता है उसी प्रकार व्यक्ति जो भी कर्म करता है वह कर्म भी उसके पीछे पीछे चलता है अर्थात व्यक्ति को अपने कर्मों का फल भोगना अवश्य ही पड़ता है आचार्य चाणक्य कहते हैं

chanakya quotes in hindi for success,chanakya thoughts,chanakya niti in odia,chanakya’s niti darpan,chanakya neeti bengali,chanakya neeti amazon,chanakya books,chanakya neeti by bk chaturvedi pdf,Chanakya Niti for Success in Life

chanakya quotes in hindi – हे केतकी (केवड़े) यघपि तू सर्पो का घर हे

आचार्य चाणक्य कहते हे,  हे केतकी (केवड़े) यघपि तू सर्पो का घर हे, फूलों से भी रहित हे, तुझमें कांटें भी हे, साथ ही टेढ़ी भी हे तू पैदा भी कीचड़ में होती हे तू मिलती भी मुस्किल से हे इतना सब कुछ होने पर भी तू अपने गंधगुण की वजेह से सब प्राणियों की बन्धु बन रही हे, इससे पता चलता हे की एक भी गुण सारे दोषों को धो देता हे  
चाणक्य नीति

chanakya quotes in hindi – सर्पयूक्त घर में रहने वाले वैय्क्ति

आचार्य चाणक्य ने कहा हे की दुष्ट नारी, धोकेबाज मित्र, चापलूस नोकरों तथा सर्पयूक्त घर में रहने वाले वैय्क्ति स्वेम अपनी मोत को शीघ्र आने का निमन्त्रण देते हें 
चाणक्य नीति

Chanakya Quotes in Hindi – दुष्ट नारी का भरण पोषण करेगा


आचार्य चाणक्य ने शास्त्रों के सार रूप में हितकारी उपदेश देते हुए बताया हे की चाहे कोई कितना भी विद्वान् पंडित हो, यदि वो मूर्खों को अपना शिष्य मानकर उसे शिक्षा देने का प्रयास करेगा, दुष्ट नारी का भरण पोषण करेगा, कंजूस लोगों के बिच रहकर उन्हें अच्छे उपदेश देगा तो उसे दुखी होना पड़ेगा स्वभावता: कमजोरियों को कोई बदल नही सकता
  चाणक्य नीति

chanakya niti आचार्य चाणक्य की लोकप्रिय नीतियां

किसी भी काम को करने से पहले खुद से तीन सवाल करें…
1. मैं यह काम क्यों कर रहा हूं?
2. इसके नतीजे क्या हो सकते हैं?
3. क्या मैं इसमें सफल हो जाऊंगा?
अगर आप गहराई से सोचते हैं और इन सवालों के जवाब से संतुष्ट होते हैं, तभी आगे बढ़ें।
आचार्य चाणक्य

Chanakya Quotes थोडा थोडा विद्या ज्ञान अर्जित करने से मनुष्ये ज्ञानवान और धनवान बन जाता हे


Chanakya Quotes in Hindi

1:- बुद्धिमान वैय्क्ति को अपने आहार के बारे में चिंता न करके, धर्म के कार्यों के प्रति लगे रहना चाहिए इश्वर ने प्रत्येक वैय्क्ति का भोजन उसके जन्म के साथ ही निश्चित कर दिया हे

2:- जिस तरह पानी की एक एक बूंद से घडा भर जाता हे उसी तरह थोडा थोडा जोड़ने से धन ऒर थोडा थोडा विद्या ज्ञान अर्जित करने से मनुष्ये ज्ञानवान और धनवान बन जाता हे

                                                                                                                               

                                                                                                                                  Chanakya / चाणक्य

Chanakya Quotes काल ही मिर्त्यु प्रदान करता हे

Chanakya Quotes in Hindi

आचार्य चाणक्य के अनमोल विचार 

1:- राजा , भरामण  ऒर तपस्वी लोगों का अपने शेत्र से बहार सम्मान होता हे परन्तु जो इस्त्री इधर उधर भ्रमण करती हे वो बर्बाद हो जाती हे
 
2:- काल ही इस संसार के सभी जीवों को अपने वश में रखता हे वही मिर्त्यु प्रदान करता हे उस समय भी काल जाग्रत अवस्था में रहता हे जबकि अन्य सभी सोते रहते हें काल (समय) अजर अमर हे ।   

                                                                                                                               Chanakya / चाणक्य

Chanakya Quotes in Hindi

Name                   Chanakya  / चाणक्य
Born                     350 BC
Died                     283 BC
Nationality           Bharat
Field                     Politics , Economics
Achievement        अर्थशाश्त्र और नीतिशाश्त्र (चाणक्य निति ) के रचयिता , मौर्य साम्राज्य की स्थापना के   लिए उत्तरदायी


 

चाणक्य के अनमोल विचार

पुत्र का आज्ञाकारी होना, पत्नी का इच्छानुसार निष्ठावान होना, संतुस्टी प्रदान करने वाला धन होने पर मनुष्य को इस पृथ्वी पर ही स्वर्ग प्राप्त होता हे 
                                                                                                                   Chanakya / चाणक्य
                                                                                                                               

chanakya quotes in hindi , न ज्यायसा समेन या

 
Chanakya Quotes in Hindi

                           

Name                   Chanakya  / चाणक्य
Born                     350 BC
Died                     283 BC
Nationality           Bharat
Field                     Politics , Economics
Achievement        अर्थशाश्त्र और नीतिशाश्त्र (चाणक्य निति ) के रचयिता , मौर्य साम्राज्य की स्थापना के   लिए उत्तरदायी

 चाणक्य के अनमोल विचार

                                                न ज्यायसा समेन या
शब्दार्थ : अधिक भॊतिक बल वाले या समान बल वाले से भी विग्रह नही छेड़ना चाहिए 

भावार्थ : जिसके पास विक्रम बल तथा उत्साह नामक तिन शक्ति अधिक समान हे, उससे यूद्ध का अर्थ सवनाश ही होता हे इस अवसर पर तात्कालिक यूद्ध को समाप्त कर स्वेमं को शत्रु से अधिक शक्तिशाली बनाने और शत्रु को कमजोर करने के लिए प्रयास करना चाहिए समान शक्ति वाले से कभी यूद्ध न करें उससे शक्तिशाली बनकर ही यूद्ध करें 

                                                                                                             Chanakya / चाणक्य

Chanakya,,,,,,, जब आत्मा के तार जुड़ जाएँ

           Chanakya……..
“जिस्स्से आत्मा  के  तार  जुड़  जाते  हैं , फिर  उसे  देखने
    के  लिए  आँखों  की  आवश्यकता  नहीं  पड़ती ….”- चाणक्य
 जेय माँ भारती                                         जेय माँ भारती