इज्जत करे इज्जत मिले inspirational stories in hindi

Inspirational word

munshi premchand stories in hindi
 

inspiring stories in hindi

 
hindi kahani तो आपने काफी पढ़ी होंगी और हर बार कुछ नया सिखने को मिला होगा इस हिंदी कहानी को भी मैने इसी उदेश्य से डाला है की आपके जीवन में कुछ परिवर्तन आए 
 
एक गांव में दो रईस रहा करते थे। उनमें से एक तो बड़े मालदार-यहाँ तक कि दस-बीस गाँव और करोडों के मालिक थे और दूसरे साहाब के पास किसी गाव में सिर्फ कुछ हिस्सा था।
 
वहि मालदार साहब को सदैव यह चेष्ठा रहती की लोग पहिले हमसे दुआ, बंदी, सलाम करें। इसलिए आप गाल फुलाए जैसे रहते थे। 
 
कभी अपने आप किसी दूसरे से हाथ जोड़ प्रणाम नहीं किया करते थे और न बैठने-उठने में ही ‘ आइय , ‘पधारिए’ कहते थे बल्कि जहाँ बैठे होते थे वहीं कुर्सी या आराम-कुर्सी पर बैठे रहते थे। आस पास चारपाइयाँ पडी रहती थी , 
 
उन पर आने वाले की तबीयत चाहै तो बैठ जाये और तबीयत चाहे चला जाये! इतना ही नहीं; वरन दो-चार आदमियों के बैठे रहने पर भी घर से मिठाई मंगवाई या कोई और वस्तु आई, तो और किसी से पूछना-पाछना नहीं । 
 
आप ही खाने लगते थे यही दशा आप की पान-पत्ते और इलायची में रहती थी। पास के बैठने वाले मुंह ताका करते थे और आप पान, इलायची मुंह में भरे बड़े शोक से बातचीत किया करते। यही दशा इनको अपनी रियासत से बाहर जाने पर भी साथ के आदमियों से या अन्यो से भी रहा करती थी।
 
दूसरे साहब जो इनके सामने कुछ भी नहीँ थे, और केवल एक गांव के कुछ हिस्सेदार ही थे, उनकी यह दशा थी कि सबसे प्रथम अभिवादन करते। 
 
”अपनी शक्ति भर कभी दूसरे को यह मौका न देते थे कि वह प्रथम अभिवादन करे। यों धोखे से चाहे कोई प्रथम भले ही कर ले। दूसरे को देखते ही उठ पड़ते थे और अपने से उच्च आसन दिया करते थे। पर फिर भी लोग जो जैसा होता था वैसा ही बैठा करते थे। 
 
इसके अतिरिक्त कभी किसी वस्तु की एकाएकी मांगने की चेष्टा नहीं करते थे, किन्तु यह औरों को खिला-पिला देते थे और आप वैसे ही रह जाते थे।
 
दूसरे के दुख पर जहॉ वह किसी के दरवाजे नहीं जानते थे, वहीं से बिना बुलाए ही दुखी के दरवाजे प्रत्येक दुखी – सुखी के दुख सुख में शामिल हुआ करते थे  परिणाम यह निकला कि उन बडे मालदार की की माँ मर गई, और उनके यहाँ एक आदमी भी न पहुँचा, विशेषकर उनकी प्रजा भी न गई। केवल नौकर और आप थे 
 
और इस एक ग्राम के हिस्सेवाले की स्त्री के मरने के समय पाँच सौ आदमी साथ थे केवल एक काम यही नहीं, बल्कि उस एक ग्राम के हिस्सेवाले के यहाँ यदि कुछ भी काम होता था, तो सैकडों आदमी जमा हो जाते थे 
 
और दूसरी तरफ उस बड़े रहिस के यंहा कोई झाँकने भी ना जाता था। 
 
और एक ग्राम के हिस्सेदार की लोग सर्वथा हर प्रकार से इज्जत किया करते थे और इनको देखकर उठते भी न थे। निदान इन्होंने अपनी यह बेइज्जती देख सैंकडों पर झूठे मुकदमे, तहसील-वसूली में सख्ती आदि हर प्रकार के प्रपंच रचे, परन्तु लोगों ने इनकी इज्जत न की।
 
शिक्षा – अगर तुम अपनी इज्जत कराना चाहते हो, तो पहले दूसरों की इज्जत करना शुरू करो, क्योंकि दुनिया आइना के समान है। यथा, आइने के सामने जैसी शकल होगी उसमें वैसी ही शकल दिखेगी इसी तरहां दुनिया के साथ जैसा बर्ताव आप करेंगे दुनिया भी आपके साथ वैसा ही बर्ताव करेगी।  
 
keywords: munshi premchand stories in hindipremchand ki kahaniya in hindi, short stories in hindi
 
इन्हें भी पढ़ें