डेंगू का इलाज

dengue fever infection, dengue fever infection control,chain of infection for dengue fever dengue fever in hindi language
डेंगू का इलाज सम्भव है । डेंगू से काफी लोगों की मोत होजाती है डेंगू एक एसा रोग है। जिसका इलाज आज आधुनिक विज्ञानं के पास नही है। लेकिन आयुर्वेद में इसका इलाज सम्भव है और ये इलाज बेहद आसान भी है । और सबसे बड़ी बात ये है की आप इस इलाज को अंग्रेजी इलाज के साथ साथ भी क्र सकते हैं । समय रहते आप अपनी समझदारी और इन छोटी सी जानकारी से अपने परिचितों की और दूसरों की भी जान बचा सकते हैं । डेंगू वायरल से होने वाला रोग है । 

लक्ष्ण :-

तेज बुखार, सर दर्द तेज होना, आँखों में दर्द का होना, आपकी त्वचा का सुख जाना , उलटी होना , ये मुख्य लक्ष्ण हैं। 

जैसे ही ये लक्ष्ण किसी में भी दिखाई पड़ें तुरंत सचेत हो जाएँ क्योंकि जितना जल्दी इस रोग का पता चल जाए उतना मरीज के लिए अच्छा होता है। जल्दी रोग का पता लगने से मरीज जल्दी ठीक हो सकता है । इस रोग के कारण खून में प्लेलेट कम होते जाते हैं । समय रहते इनको कम होने से नही रोका गया तो मोत हो सकती है । लेकिन घबराएं नही शांति और समझदारी से काम लें । 

उपचार:- 
  • 1. अनार का रस–  आप मरीज को अनार का रस दें ।


  1. 2. गेहूं का रस – इसे गेहूं के जवारे का रस भी बोलदेते हैं । गेहूँ का रस बनाने की विधि ये है। http://www.bharatyogi.net/2014/05/wheat-grass-juice-useful-in-cancer.html  


  • 3. सेब का रस – सेब का रस भी काफी उपयोगी माना गया है।

dengue ka upchar, dengue ka ilaj, dengue fever in hindi,

  • 4. गिलोय – गिलोय को आयुर्वेद में अमृता भी कहा जाता है। जैसे नाम से ही स्पष्ट है । की अमृता अर्थात अमर रहने वाली, ये हमें प्रक्रति की अनुपम भेट है । आप इसे वैसे भी अपने घर में लगा कर रखिये । ये सभी प्रकार के ज्वरों में फायेदा करती है। गिलोय की डंडी लें और उसके उपर का छिल्क उतार कर डंडी के छोटे छोटे टुकड़े करलें और उसे 1 गिलास पानी में तब तक उबालें जब तक पानी आधा ना रह जाए। फिर इसे ठंडा करके पिलादें ।  यदि आपको गिलोय की बेल ना मिले तो आप किसी भी पतंजली की दूकान से गिलोय घनवटी की गोली ले सकते हैं और दिन में 3 बार 1 – 1 गोली रोगी को दें ।


  • 5. अमरुद – दिन में कई बार अमरुद खाएं काफी फायेदा होगा कम से भी कम दिन में 4 बार जरुर खाएं।


  • 6. बकरी का दूध – काफी भाइयों ने इसका प्रयोग किया है । डेंगू को ठीक करनें में भी बकरी के दूध का महत्वपूर्ण योगदान है ।


  • 7. पपीता – पपीते के पत्तों का रस मरीज को दिन में 3 बार दें काफी जल्दी लाभ होगा    और जल्दी ही प्लेलेट बनने शुरू होजाएँगे ।


नोट :- अपने घरों में गिलोय की बेल जरुर लगाएं ये सभी प्रकार के ज्वरों में लाभ दायक होती है ।ये हमारी रोगों से लड़ने की शमता को अधिक बढ़ादेती है ।

यदि आपको ये लेख पसंद आया तो फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें  https://www.facebook.com/maabharti

keyword : treatment of dengue fever in hindi, treatment of dengue fever, dengue ka upchar, dengue ka ilaj, dengue fever in hindi, dengue fever in hindi language, dengue in hindi language, dengue fever symptoms,treating dengue fever, treating dengue fever at home, dengue fever infection, dengue fever infection control,chain of infection for dengue fever , dengue fever in hindi language