सिर दर्द का कारण और इसका इलाज घरेलू नुस्खों दवारा

सिर-दर्द, ललाट, कनपटियों, सिर के पीछे के भाग, ऊपर के हिस्से, सारे सिर में कंही भी हो सकता है। सिर-दर्द कुछ बीमारियों में तो एक लक्षण मात्र होता है, जैसे-ज्वर, फ्लू , माता आदि में। कभी स्वतंन्त्र रूप से केवल सिर-दर्द होता है। ऐसा सिर-दर्द स्वयं एक रोग है।                                                                                                                                                                                                                                 

सिर-दर्द के कारण-

  • 1. मस्तिष्क की शिराओं में रक्त संचय से “सिर-दर्द होता है।


  • 2. रक्तभार (Blood Pressure) की वृद्धि होने से लगातार सिर-दर्द रहने का लक्षण रहता है। रक्तभार कम होने से मस्तिष्क को रक्त-आक्सीजन कम मिलने से सिर-दर्द होता है।


  • 3 . बुखार में सिर-दर्द मस्तिष की धमनियों में फैल जाने से होता है।


  • 4. करोधादि तीव्र मानसिक आवेश से कपाल की धमनियों में शैथिल्य (Dilatation) होकर सिर-दर्द होता है चिंन्ता से चेहरे और कपाल की माँस-पेशियों में तनाव (Tension) बढ़ जाने से सिर-दर्द रहता है जो पिछले भाग (Occipital) में होता है।


  • 5. नींद कम आनें, और ना आने से सिर दर्द होता है।


  • 6. रक्त में बिष, जैसे मूत्र रोग, अपच से उत्पन्न प्रभाव से सिर-दर्द हो जाता है।


  • 7. जुखामं होने पर भी सिर दर्द हो जाता है


  • 8. नेत्रों की कमजोरी, नेत्र रोग, कान, नाक, गले, दाँतों के रोगों से सिर-दर्द होता है।


  • 9. कांई सिरा प्रसारक औषधि खाने से, शरीर में कोई बाहा प्रतिकूल प्रोटीन आने से सिर- दर्द होता है।


  • 10. लगातार रहने वाले सिर-दर्द के कारण अम्लपित्त (Acidity) और नेत्रों के रोग हैं।


चिकित्सा – सिर दर्द के कारण, प्रकृति, स्थिति, रोगी के घातु के अनुसार चिकित्सा करने से सिर-दर्द ठीक हो जाता है। सबसे पहले तो कारणों को दूर करने का प्रयास करें।
        जुकाम, अधिक श्रम, मानसिक चिंता, रात्रि-जागरण. से जो सिर-दर्द होता है, वह अपने आप चला जाता है। चिकनाई वाले पदार्थों के सेवन की कमी से आँखों में सफेदी ,मस्तिष्क में रुक्षता हो जाती है। इससे सिर-दर्द हो जाता है ऐसे सिर-दर्द में दूध, मक्खन, घी, हलुवा चिकने पदार्थ अधिक सेवन करने से लाभ होता है। शारीरिक और मानसिक श्रम अधिक करने से होने वाले सिर -दर्द में आराम करना चाहिय। निन्द्रा लेनें से सभी प्रकार के सिर दर्द में लाभ मिलता है निचे भोजन के दवारा चिकित्सा में प्रयुक्त चीजों का वर्णन किया जाराहा है 

  • पानी– जुकाम से सिर-दर्द हो तो दोनों पैरों को गर्म पानी में रखने से आराम मिलता है। रक्तभार की अधिकता से तेज सिर-दर्द हो तो सिर पर पानी की पट्टी रखें ।                                                                                                                                                       
  • निम्बुं – सिर-दर्द होने पर नींबू चाय में निचोड़ कर पीने से लाभ होता है। नींबू पत्तियों को कूट कर  रस निकाल कर रस को सूंघें जिन्हें हमेशा सिर दर्द रहता है। वो व्यक्ति यह उपाय करें। इससे सदा के लिए सिर -दर्द ठोक हो जायेगा।                                                                                                                                                                                   
  • सेब- सेब पर नमक लगाकर 20-25 दिन खाने से सिर-दर्द में लाभ होता है। एक या दो सेब नमक लगाकर प्रात: भूखे पेट चबाकर नित्य खायें । इसके बाद गर्म पानी या गर्म दूध पीये।                                                                                                                             
  • नारियल– नारियल की सुखी गिरी और मिश्री सूर्य उगने से पहले खाने से सिर-दर्द बन्द हो जाता है।                                                                                                               
  • गाजर– गाजर का रस 185 ग्राम, चुकुन्दर का रस 150 ग्राम, खीरा या ककड़ी का रस 125 ग्राम मिलाकर पीने से सिर-दर्द ठीक होता है।                                                                                                                                                                             
  • इमली– 50 ग्राम इमली को एक गिलास पानी में भिगो कर मल कर चीनी डालकर छानकर सुबह-शाम दो बार पीने से गर्मी से उत्पन्न सिर-दर्द में लाभ होता है।                                                                                                                                                     
  • फालसा– पित्त प्रक्रोप के कारण होने वाले सिरदर्द में फालसे का शर्बत सुबह-शाम पीना चाहिए।                                                                                                                   
  • प्याज– ‘हर प्रकार का सिर-दर्द, लू लगने से सिर-दर्द हो तो प्याज़ को पीस कर पैरों के तलुओं पर मलने से लाभ होता है। प्याज को कद्दुकस करके सूंघने से भी सिर-दर्द दूर होता है।                                                                                                                               
  • लहसुन- सिर-दर्द चाहे आधे सिर का हो या पुरे सर का दर्द हो, केसा भी दर्द हो लहसुन पीस कर कनपटी पर जहां दर्द हो, लेप करने से दर्द मिट जाता है। लहसून के लेप से त्वचा पर फफोले पढ़ जाते हैं । अत: लेप करते समय सावधान रहना चाहिए। थोडी देर लेप करने के बाद धोकर जगह साफ़ कर देना चाहिए। यदि आधे सिर का दर्द होतो जिस ओर दर्द हो उस ओर के नथुने में दो बूंद लहसुन का रस डालो। हर दो घण्टे से दो कलियाँ लहसुन चबा कर ऊपर से पानी पिलायें।                                                                                                                         
  • उडद– ‘उडद की दाल भिगो कर पीसकर ललाट पर लेप करने से गर्मी से हुआ सिर-दर्द ठोक हो जाता है।                                                                                                                                                                                                                       
  • घी – रात को सोते समय पैर के तलवों पर देसी गाएं के घी की मालिश करने से अचानक होने वाला सिर-दर्द ठीक हो जाता है।                                                                                                                                                                                       
  • सरसों का तेल – ठंड से सिर-दर्द हो, ठंडे पानी में स्नान करने से, ठंडी हवा में घूमने के कारण सिर-दर्द हो तो नाक, कान, नाभि और तलवों पर सरसों का तेल लगाये, लाभ होगा ।                                                                                                                                   
  • सौंफ-“एक चम्मच सौंफ चबा कर दूध पीये। सिर-दर्द में लाभ होता है। पुराने सिर दर्द के रोगी नित्य ही दो बार सेवन करें।                                                                                                                                                                                                   
  • गेहूँ- गेहूँका आटा आग पर डालकर इसका धुआँ नाक से सूंघें अन्दर खीचें । इससे सर्दी,जुकाम, नज़ला बिगड़ने से, साइनोसाइटिस के कारण, सूर्योदय के साथ बढने वाला सिर-दर्द ठीक हो जाता है l गेहूँके आटे का धुआँ तीन मिनट नित्य सुबह-शाम सूंघें l पुराने, असाध्य समझें जाने वाले सिर-दर्द ठीक हो जायेगे। 

keyword –  migraine treatment in hindi, migraine symptoms in hindi, home remedies for migraines, migraine treatment in ayurveda in hindi, migraine treatment in hindi, migraine headache, migraine symptoms, what causes migraines, common migraine, sir dard in hindi, sir dard ke upay in hindi, sir dard ka ilaj hindi me, sir dard ka desi ilaj in hindi, sir dard ka gharelu upchar in hindi