गिलोय के फाएदे अनेक

गिलोए सदा अमर रहने वाली बेल इस अमरता (गिलोए) के जितने लाभ बताएं जाएं उतने ही कम हैं । इसके फाएदों की तो गिनती ही नही है । इसके अनगिनत लाभ हैं । ये सदा हरी भरी रहने वाली बेल है । इसके पत्ते दिखने में पान के पत्तों जैसे होते हैं । अगर आप इस बेल को काट  कर छत पर गेर दें खूब गर्मी के मोसम में तब भी ये नही सूखेगी और बरसात के मोसम आते ही मिट्टी को खोजते हुए जमनी में आ मिलेगी । 
 
आप इसकी डंडी को कंही भी लगा दीजिए उचित समय आते ही (खास तोर से बरसात का मोसम ) इसमें से पत्ते निकलने शुरू हो जाएँगे । और ये बेल चरों तरफ से फैलती है । सबसे ज्यदा गुण वाली गिलोय नीम के पेड़ पर चढ़ी हुई मानी जाती है । क्योंकि इसमें निम के गुण भी आजाते हैं । इसकी खासियत ही ये है की आप इसे जिस पेड़ पर चढ़ा देंगे ये उसके गुण भी ले लेती है । 
 
आप निम की खासियतों के बारे में तो जानते ही होंगे । और निम पर चढ़ी हुई गिलोए के बारे में तो क्या कहने बस ये समझ लीजिये की सबसे जबर्दस्त ओषधि बन जाती है ।
 
अब जानीय इसके कुछ खास प्रयोग :- 
गिलोय का रस बनाने की विधि निचे देदी गई है 
 
 1    स्वाइन फ्लू में गिलोय के फाएदे  
 
आप स्वाइन फ्लू में गिलोए का रस पीजिये फिर देखिये इसके फाएदे । इससे सवाईन फ्लू में अच्छा फायेदा होता है । ये समस्त रोगों को जड से खत्म करदेगी ।
 
 
 
 2    पीलिया में गिलोय का फायेदा 
 
गिलोय का रस निकाल कर रोज पिए पीलिये में काफी लाभ मिलेगा ।
 
 
 
 3    बुखार में गिलोय के फाएदे
 
बुखार को तो ये जड से खत्म करदेगी यदि नियमित इसका प्रयोग किया जाये तो बुखार कभी होगा ही नही।
 
 
 4    डेंगू में गिलोय के फाएदे
 
डेंगू मैं मरीज के खून में प्लेलेट काफी जल्दी घटते हें जिससे मोत हो जाती है । आप इसका रस पीजिये फिर देखीय इसका चमत्कार कितनी जल्दी प्लेलेट बढ़ेंगे और रोगी जल्दी ठीक होगा । अंग्रेजी दवाओं के साथ भी इस का प्रयोग किया जा सकता है ।
 
 
 5    गिलोय का दातुन की तरहां प्रयोग 
 
आप गिलोय को दातुन की तरेहं प्रयोग कर सकते है । रोज सुबह खली पेट इसकी दातुन कीजिये फिर देखिये आपको जल्दी से कोई रोग छु भी नही सकेगा ।
 
 
 6    चिकनगुनिया में गिलोय के फाएदे
 
चिकनगुनिया मैं गिलोय फायेदा करती है । इसका नियमित रूप से रस पियें 
 
 
 
 7    यज हवन मैं प्रयोग 
 
यदि आप गिलोय का यज्ञ (हवन) में प्रयोग करते हैं तो ये आपको तो फायेदा देगी ही और दूसरों को भी इससे फायेदा होगा । हवन मैं प्रयोग करने के लिए गिलोए की डंडी के छोटे छोटे टुकड़े करलें फिर इन्हें रोज धुप में सुखाये जब ये अच्छे से सुख जाएं तो रोज इसका हवन में प्रयोग करें ।
 
 
 
 8    खून की कमी दूर कीजिय गिलोय से 
 
जिनको खून की कमी की शिकायत रहती हैं वो लोग इसका इस्तेमाल करके देखें आपका खून बढ़ना शुरू हो जाएगा , और ये गिलोए खून को साफ़ भी करेगी । 
 
 
 9    गिलोय के प्रयोग से उलटी में फायेदा 
 
जिन व्येक्तियों को उलटी की शिकायत रहती है । गर्मी के मोसम में वो व्येक्ती यदि रोज गिलोय का रस पिये तो ये शिकायत भी नही रहेगी ।
 
10   गिलोय करे बच्चों की बिमारियों को दूर 
आप अपने बच्चों को रो गिलोय का रस पिलायें उन्हें कोई रोग आसानी से नही होगा
 
गिलोय का रस बनाने की विधि 
गिलोय की डंडी का टुकड़ा ले लीजिये अब उसके उपर जो पतला सा छिल्क है उसे उतार दीजिये । अब गिलोय की डंडी के छोटे – छोटे टुकड़े कर लीजिये और अब किसी पानी गर्म करने वाले बर्तन में 2 गिलास पानी डाल दिजिय और जो गिलोय के टुकड़े हैं उन्हें इस पानी में दाल दीजिये अब पानी को उबालिय जब पानी आधा गिलास रह जाये तो इसे ठंडा करके पीजिये 
 
फेसबुक पर हमारे दोस्त बनिये हमारे पेज को लाइक कीजिये https://www.facebook.com/maabharti 
 
keyword:- top 10 giloy benefits in hindi, giloy benefits in hindi language ,giloy plant benefits in hindi , giloy ghan vati benefits in hindi, giloy meaning in hindi, giloy benefits in diabetes , giloy juice benefits , neem giloy benefits , benefits of giloy amla juice

4 thoughts on “गिलोय के फाएदे अनेक

    1. amit arya Post author

      जी धन्यवाद गिलोय की डंडी का इस्तेमाल स्वस्थ आदमी दातुन की तरहा रोज करे तो डेंगू या फिर और कोई रोग होगा ही नहीं

Comments are closed.