आक अर्क के ओषधिय प्रयोग

परिचय
आक-अर्क के पौधे, शुष्क, ऊसर और ऊँची भूमि में प्राय: सर्वत्र देखने को मिलते हैं। इस वनस्पति के विषय में साधारण समाज में यह भ्रान्ति फेंली हुई है कि आक का पौधा विषेला होता है तथा यह मनुष्य के लिये घातक है। इसमें किंचित सत्य जरूर है क्योकि आयुर्वेद संहिताओं मे भी इसकी गणना उपविषों में की गई है। यदि इसका सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाये तो, उल्टी…दस्त होकर मनुष्य यमराज के घर जा सकता है। इसके विपरीत यदि आक का सेवन उचित मात्रा में, योग्य तरीके से, चतुर वैद्य की निगरानी में किया जाये तो अनेक रोगों में इससे बडा फायदा होता है। इसका हर अंग दवा है, हर भाग उपयोगी है एवं यह सूर्य के समान तीक्ष्य. तेजस्वी और पारे के समान उत्तम तथा दिव्य रसायन धर्मा हैं। कहीं…कहीं इसे ‘वानस्पतिक पारद’ भी कहा गया है। इसकी तिन जातियाँ पाइं जाती है, जो निम्न प्रकार है 

  1. रक्तार्क : इसके फूल शवेत रंग के छोटे, कटोरीनुमा और भीतर लाल और बैंगनी रंग की चित्ती वाले होते है। इसमे दूध कम होता है।                                                                                                                                                                                       
  2. श्वेतकार्क : इसका फूल लाल आक के पुष्प से कुछ बडा और हल्की पीली आभा लिये सफेद कनेर के फूल जैसा होता है। इसकी केशर भी बिल्कुल सफेद होती है। इसे मदार भी कहते हैं। यह प्राय: मन्दिरों मेँ लगाया जाता है। इसमें दूध अधिक होता है।                                                                                                                                                             
  3. राजार्क : इसके पौधो में एक ही शाखा होती है, जिस पर केवल चार पत्ते लगते हैं। इसके फूल चांदी के रंग जैसे श्वेत होते है, यह बहुत दुर्लभ जाति है। इसके अतिरिक्त आक की एक और जाति पाई जाती है, जिसमें पिस्तई रंग के फुल लगते हें


गुण-धर्म

  1.  दोनों प्रकार के आक दस्तावर है, वात जन्य कुष्ठ, कंडू, विष, व्रण, प्लीहा, गुल्म, बवासीर, कफ जन्य उदर रोग और मल कृमि को नष्ट करने वाले है 
  2. “सफेद आक का फूल वीर्य-वर्धक, हल्का, दीपनपाचन, अरूचि, मुह से पानी आना, लाला आबद्ध बवासीर, खासी तथा स्वास नाशक है 
  3.  लाल आक का फूल मधुर एबं कुछ कडुवा, ग्राही, कुष्ठ, कृमि, कफ, बवप्सीर, विष, रक्तपित, गुल्म तथा सूजन को नष्ट करने वाला है 
  4. आक का दूध: कड़वा, गर्म, चिकना, खारा, हल्का, कोढ एवं तथा उदररोग नाशक है। विरेचन कराने में यह अति उतम है।                                                                                                                                                                                                   
  5. मूलत्वक: हृदयोत्तेजक, रवत्त शोधक और शोथहर है। इससे ह्रदय की गति एवं संकोच शक्ति बढती है, तथा रक्त भार भी बढता है। यह ज्वरध्न ओर विषमज्वर प्रतिबन्धक है।
  6. पत्र दोनों प्रकार के आक के पत्ते वामक, रेचक, भ्रमकारक कासश्वाश , कर्णशूल, शोथ, उरुस्तम्भ, पामा, कुंष्ठ आदि नाशक है।
ओषधिय प्रयोग 
    1. मुँह की झाँइं, धब्बे आदि : हल्दी के 3 ग्राम चूर्ण को आक के दुग्ध 5-7 बूंद व गुलाब जल में घोटकर आंखों को बचाकर झाई युक्त  स्थान पर लगायें, इससे लाभ होता है। कोमल प्रक्रति वालों को आक की दूध की जगह आक का रस प्रयोग करना चाहिए।                                                                                                                                                       
    2. सिर की खुजली: इसे सिर पर लगाने से क्लेद कंडूयुक्त अरुषिका में लाभ होता है।                                                                                                                                 
    3. कर्णरोग: तेल और लवण से युक्त आक कं पत्तों को वैघ बाय हाथ में लेकर दाहिने हाथ से एक लोहे की कडछी को गरम कर उसमें डाल दें। फिर इस तरह जो अर्क पत्रों का रस निकले उसे कान में डालने से कान के समस्त रोग दूर होते है। कान’ में की साँय…साँय की आवाज होना आदि में इससे बहुत लाभ मिलता हे।                                                                                                                                                                                                   
    4. कर्णशूल : आक के भली प्रकार पीले पडे पत्तों को थोडा घी लगा कर आग पर रख दें, जब वे झुलसने लगें, चटपट निकालकर निचोड लें। इस रस को थोडी गरम अवस्था में ही कान में डालने से तीव्र तथा बहुताधिक वेदनायुक्त- कर्णशूल नष्ट हो जाता है।                                                                                                                                                                                                                                                                   
    5. आक और नेत्र रोग : अर्क मूल की छाल सूखी 1 ग्राम कूटकर, 20 ग्राम गुलाब जल में “5 मिनट तक रखकर छान लें। बूंद-बूंद आंखों में डालने से ( 3 या 5 बूंद से अघिक न डालें) नेत्र की लाली, भारीपन दूर होता हे कीच की अधिकता और खुजली दूर हो जाती है।                                   सावधानी : आक का दूध आँख में नही लगना चाहिए नही तो भयंकर परिणाम होगा                                                                                                 
    6. मोतिया बीन्द : आक के दूध में पुरानी ईट का महीन चूर्ण (10 ग्राम) तर कर सुखा लें। फिर उसमें लोंग (6 नग) मिलायें, खरल में भली प्रकार से महीन करके और बारीक कपड़छन कर लें। इस चूर्ण को चावल भर नासिका द्वारा प्रतिदिन प्रात: नस्य लेने से शीघ्र लाभ होता है। यह प्रयोग सर्दी-जुकाम में भी लाभ करता है।                                                                                                               
    7. वमन : अर्कमूल की शुष्क छाल को समभाग अदरख के रस में भली प्रकार खरल कर 125 मिलीग्राम की गोलियों बनाकर धूप में सुखाकर रख लें। मधु के साथ सेवन कराने से किसी भी प्रकार का वमन 1-2 गोली के सेवन से बन्द हो जायेगा। प्रवाहिका, शूज, मरोड़ और विसूचिका में इसे जल के साथ देते है।                                                                                                                                                                                                                               

    सावधानी :- आक का पौधा विषेला होता है। इसके दूध का अधिक मात्रा में सेवन करने से उल्टी…दस्त होकर मनुष्य मृत्यु को प्राप्त हो सकता है। अत्त: इसका उपयोग सावधानी पूर्वक करना चाहिये।