मस्तिष्क के रहस्यों की खोज

दिमाग की ताकत 

मस्तिष्क (mind) अपने भीतर बहुत सारी जानकारियां (Information) इकठ्ठी करके रखता है । उदाहरण के तोर पर किसी से मिलने जाना है, किसी को कोई वस्तु लौटानी है इस तरह और भी बहुत कुछ मस्तिष्क की गहराइयों में कहीँ इकट्ठा होता रहता है मेक्स प्लांक इंस्टीदृयूट आफ हयूमन कोग्निटिव (max planck institute of human development) एंड ब्रेन साइंसेस के वैज्ञानिक (scientist) जॉन डाइलेन हायन्स ने लंदन और टोकियो के शोधार्थियों के सहयोग से ‘ इस बात का पता लगाया है कि मस्तिष्क के भीतर एकत्र होने वाली ये जानकारियां कंहा और कैसे इकट्ठा होती हैं ।

फंगसनल मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग तकनीक और अत्याधुनिक कम्यूटर एल्गोरिथिज द्वारा शोधार्थी पहली बार यह बात जान पाये है प्रयोगों में मस्तिष्क की गतिविधियों दवारा शोधारती इन स्थानो का पता लगाने में सफल रहे जहां मस्तिष्क इन गुप्त जानकारियों को इकट्ठा करके रखता है
ये इच्छायें या जानकारिया तब तक गुप्त रहती हैं जब तक हम इन्हें कार्य में तब्दील नहीं करते । प्रयोग में वैज्ञानिकों ने कुछ लोगों को जोड़ने या घटाने के लिये दो नम्बर दिये । लेकिन उनसे कहा गया अपने मस्तिष्क में ही रखें । तब मस्तिष्क की गतिविधियों को उपरोक्त तकनीक द्वारा पढ़ने पर यह पाया गया कि वैज्ञानिक उन लोगों की इच्छा को 70 फीसदी तक जानने में सफल रहे
वैज्ञानिकों के अनुसार मस्तिष्क के प्रीफ्रंटल कांट्रेक्स के विभिन्न हिस्से अलग-अलग कार्यकलापों को अंजाम देते हैं । बल्कि अपना दिमाग इच्छाओं या जानकारियों को तब तक इकटूठा रखता है जब तक उन पर एक्शन न लिया जाता है । मस्तिष्क का पिछला हिस्सा कार्य करता है जब प्राणी कार्य कर रहा होता है । और भविष्य के कार्यों को मस्तिष्क एक हिस्से से कॉपी करके दूसरे हिस्से में भेज देता है जहां से इनको कार्य में तब्दील किया जाना है
यह खोज दिमाग की बिमारियों के इलाज में लाभदायक सिद्ध होगी