मोटापा दूर करें इन जबर्दस्त उपायों से

weight loss tips in hindi
मोटापा (obesity) एक प्रकारका रोग है, इसके होनेके दो मुख्य कारण हैं, एक है-आनुवंशिक अर्थात् वंशगत जिनके माता-पिता मोटे होते हैं, उनकी संतान प्राय: मोटी होती है । दूसरा कारण है- भूख से अधिक खाना, शारीरिक श्रम नहीं करना, ज्यादा आरामदायक जिवन बिताना। जो लोग खाना खाकर पड़े रहते हैं, उन्हें मोटापा आ जाता है । साधारणत: मोटापे की पहचान यह है कि जितने इंच शरीरकी ऊँचाई हो, उतने किंलो शरीरका वजन ठीक है। इससे अधिक होनेपर “मोटा” और कम होनेपर ‘पतला’ कहा जायगा ।
बचपन (Childhood) और किशोर (teenager) अवस्था में दौड़…भाग, खेलना कूदना प्राधान्य होता है- इस कारण शरीर में फालतू चर्बी (excess fat) जमा नहीं हो पाती, खर्च हो जाती है जो उम्र के बढ़नेपर शरीरसे मेहनत नहीं करते और काबोंहाइड्रेट (Karbonhidrat) तथा अधिक केलोरिवाला (Kelori) आहार करते हैं, उनके शरीरपर चर्बी जमा होने लगती है । पैट, कुल्हा, कमर, नितम्ब मोटे हो जाते हैं । चलने-फिरनेमें कष्ट होता है। खूनका दौरा धीमा पड़ जाता है। रक्तवाहिनी नसोंमें कोलेस्टेराल (Cholesterol) (वसा) जम जाता है इस कारण हाई ब्लडप्रेशर (High Blood pressure) और हृदयरोग हो जाते हैं शारीरिक श्रम नहीं होनेसे कब्ज हो जाता है-अपच और डायबिटीज (मधुमेह) हो जाता है । रक्त-संचार ठीक नहीं होनेसे रोग-प्रतिरोधक शक्ति घट जाती है मोटापासे शरीर बेडौल हो जाता है। मोटापा एक घातक रोग बन जाता है। अत: मोटापा शुरू होते ही इसको दूर करने के उपाय करने चाहिए ।
मोटापा दूर करने या इससे बचनेके दो मुख्य उपाय हैं, पहला है- भोजन सुधार और दूसरा है-प्रतिदिन शारीरिक श्रमा जिन पदार्थोंमेँ काबोंहाहड्रैट अधिक हो उनका सेवन न करें । तेल, घी, डालडासे बनी चीजें न खाये । आलू शकरकन्द और चीनीसे बनी चीजें न खाये । दिनचर्या इस प्रकार बनायें-सवेरे जल्दी उठें और एक गिलास गुनगुने गरम पानीमें कागजी नीबू निचोड़कर उसमें दो चम्मच शुद्ध मधु मिलाकर पी जायँ तथा कुछ समय टहले । फिर शोचके लिये चले जायँ । इसके बाद दातोंन-मंजन कर टहलनेके लिये निकल जायें। नित्य तीन-चार किलोमीटर अवश्य टहले । जो बाहार जाना नहीं चाहते वे अपने घरकी छत्तपर या आंगन में टहल सकते हैं । हलके व्यायाम कर सकते है । नाश्तेमें रसदार फलले या मक्खन निकला मट्ठा ले।दोपहरके भोजनमें जौ के आटे की एक-दो रोटी, उबली सब्जी, कच्चा सलाद और सूप ले ।
तीसरे पहर फलोंका रस ले। रातके भोज़नमें हरी उबली सब्जी और एक-दो जोके आटेकी रोटी खावै’ भोजन के तुरंत बाद पानी न पीये । मोटापा कम करनेके लिये भोजनमें रोटी कम खाये और सब्जी, कच्चा सलाद और सूप अधिक ले। दिनमें न सोए मोटी महिलाओं को घर के काम यथासम्भव स्वयं करने चाहिये इस तरह मोटापा नहीं बढेगा । शरीरमें ताजगी और स्फूर्ति  आयेगी। शरीर सुन्दर, स्वस्थ और कांतिवान बनेगा’ क्रोध, चिन्ता और शोक…ये स्वास्थ्य और सोन्दर्य का नाश करते हें, अत: इनसे बचते रहें,