बाँस की खेती हरा सोना

Bamboo (बाँस) प्राय: गरीब आदमी की लकडी,  सोना, Green Gold (हरा सोना)  आदि नामों से जाना जाता है तथा मनुष्य के जीवन में यह अहम भूमिका निभाता है । बांस एक Versatile (बहुमुखी) पौधे के रूप में हमारे जीवन मेँ पारिस्थितिकीय, आर्थिक तथा जीविका सुरक्षा प्रदान करता हे। अभी तक बांस ज्यादातर जंगली रूप में यानी समूचे वन क्षेत्र के 28 प्रतिशत भाग में उगाया जाता है तथा इसका करीब दो-तिहाई उत्पादन पूर्वोत्तर राज्यों में होता हैं। बांस औधोगिक और घरेलू उपयोग के लिए कच्चे माल के रूप में व्यापक रूप से प्रयोग क्रिया जाता है तथा हमारे देश में इसकी मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है ।
निरंतर बढ़ती हुई बास की मांग को देखकर इसकी Commercial farming (व्यावसायिक खेती) करना अत्यन्त आवश्यक हो गया है । यही नहीं बांस की व्यापक क्षमता का अभी तक पूर्ण रूप से दोहन भी नहीं किया गया है । इन सभी बातों को ध्यान में रखकर भारत सरकार ने बांस के पूर्ण विकास से संबधित सभी मुद्दों पर अमल करते हुए राष्टीय बास मिशन प्रारंभ किया था । यह मिशन केन्द्र सरकार द्वारा प्रायोजित योजना है जिसके अतर्गत केन्द्र सरकार की और से शतप्रतिशत योगदान दिया जाएगा। इस योजना को कृषि एवं सहकारिता विभाग, कृषि मंत्रालय, नई दिल्ली के तहत बागवानी प्रभाग द्वारा कार्यान्वित किया जाएगा
Green Gold Bamboo Mission मिशन के मुख्य उद्देशय
मिशन के प्रमुख उदेश्य निम्नलिखित है :
1. क्षेत्र पर अधारित आँचलिक रूप से विशिष्ट रणनीति दवारा बास क्षेत्र के विकास को प्रोत्साहित करना;
2. क्षमतावान क्षेत्रों में बांस के तहत आने वाले क्षेत्र में वृद्धि के साथ-साथ पैदावार बढाने के लिए बांस की Advanced breed विकसित किस्मो का विकास करना;
3. बांस और बांस पर आधारित हस्तशिल्प उत्पादों के विपणन को बढावा देना;
4. बास के विकास के लिए स्टेकहोल्डरों के बीच परिवर्त्तन और सहयोग कायम करना;
5. पारंपरिक ज्ञान और Modern scientific आधुनिक वैज्ञानिक जानकारी के प्रासंगिकता मिश्रण द्वारा विकास और प्रसार प्रौद्योगिकियों को बढावा देना,
6. कुशलं तथा अकुशल लोगों, विशेष रूप से बेरोजगार युवकों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करना
मिशन की रणनीति
उपरोक्त उद्देश्यों को हासिल करने के लिए मिशन की निम्नलिखित रणनीतियां हैं
1. उत्पादकों को उचित लाभ सुनिश्चित करने के लिए उत्पादन और विपणन को शामिल करते हुए समन्वित अवधारणा को अंगीकृत करना
2. उत्पादन बढाने के लिए उचित प्रजातियों और प्रौघोगिकियों के उत्कृष्ट आनुवंशिक क्लोन के अनुसंधान एवं विकास को बढावा देना
3. किस्म परिवर्तन और सुधरी कृषि-क्रियाओं द्वारा बांस के वनीय और गेर-वनीय क्षेत्रफल और उत्पादकता में वृद्धि करना,
4. सार्वजनिक तथा निजी क्षेत्र के सभी स्तरों पर अनुसंधान एंव विकास तथा विपणन एजेसियों के बीच सहभागिता, परिवर्तन तथा सहयोग को बढावा देना
5. किसानों को पर्याप्त लाभ तथा सहयोग को सुनिश्चित करने के लिए उचित, सहकारी तथा स्वयं-सेवी दलों को बढावा देना
6. क्षमता निर्माण तथा मानव संसाधन विकास को बढावा देना

7. किसानों के Product उत्पाद के लिए पर्याप्त लाभ सुनिश्चित करने और मध्यस्थता को समाप्त करने के लिए राष्टीय, राज्य तथा उप-राज्य स्तर पर संगठनों का निर्माण करना

NOTE- (SHREE D.B.G चटोरी नमकीन वालों की तरफ से)  यदि आपको नजला (najla) रहता है तो आप हमसे इसका पक्का इलाज करवा सकते हैं और आप 100% ठीक होंगे ये हमारा अभी तक का अनुभव है और ये इलाज फ्री है तो घबराना कैसा आप हमे इस नम्बर पर whatsapp करें 09671963133 या हमे मेल करें amittomar121@gmail.com प्राणी मात्र की सेवा करो। 
(दोस्तों SHREE D.B.G चटोरी नमकीन वालों की ये चटोरी नमकीन भी काफी स्वादिष्ट है और मात्र 250 रुपय में 1 kg भेज देते हैं आप भी एक बार खाकर देखीय यकीन मानिय स्वाद नही भूल सकेंगे आप इस नम्बर पर फ़ोन कर सकते हैं 09671963133)