paschimottanasana / पश्चिमोत्तानासन और आपका स्वास्थ्य

YOGA ASANA
paschimottanasana / पश्चिमोत्तानासन

yoga asana tips in hindi विधि:-

1:-  दोनों पेरों को आगे की तरफ फेलाकर, कमर सीधी करके बेठें, साँस को भीतर लेते हुए दोनों हाथों को उपर की तरफ ले जाएँ,

2:-  सांस को छोड़ते हुए आगे की तरफ झुके बिलकुल धीरे धीरे निचे आयें  पैर के अंगूठों को पकड़ें, और नाक को घुटनों पर लगाने का प्रयास करें, ध्यान रहे की घुटने मुड़े नही सीधे रहें, जितना झुका जाये सिर्फ उतना ही झुकें जबरदस्ती न करें,

3:-  नाक घुटने से लग जाये तो कोहनियों को भी जमीन से लगाने का प्रयास करें, अब कुछ देर इसी आसन में रहें,

4:-  अब साँस लेते हुए दोनों हाथों को उपर की तरफ ले जाएँ और कमर सीधी करके बेठ जाएँ बिलकुल आराम आराम से करें, अब साँस छोड़ते हुए हाथों को निचे की तरफ ले आयें, अब रिलेक्स की इस्थिति में बेठ जाएँ

कोन ये आसन न करें :-

1:- जिन्हें Slipped Disk Problems स्लिप डिस्क का रोग हे वो व्येक्ती ये आसन न करें.
2:-  जिन्हें कमर से सम्बन्धित रोग हे वो ये आसन न करें.

लाभ:- 

1:- इस आसन को करने से पेट की चर्बी कम होती हे, पेट घटता हे.
2:- इस आसन से कमर लचीली बनती हे.
3:- Diabetes (मधुमेह शुगर) के रोग में ये आसन लाभदायक हे.
4:- कब्ज के रोग में फायेदे मंद हे 
5:- स्वप्न दोष के रोग में लाभदायक हे.
Note:- कोई भी आसन प्राणायाम गुरु की देख रेख में ही करें अन्यथा लाभ के बजाये हानि भी हो सकती हे 
इस आसन के बाद इसका विपरीत आसन Ustrasana (उष्ट्रासन) जरुर करें,

जरा इसे भी देखें- Ustrasana (उष्ट्रासन)