Shyamji krishna varma एक क्रांतिकारी जिनकी अंतिम इच्छा 73 साल बाद मोदी जी ने पूरी की

Shyamji krishna varma (श्यामजी कृष्ण वर्मा) 1930 में इनकी मिर्त्यु हुई थी, क्रन्तिकारी श्यामजी कृष्ण वर्मा जिनकी अंतिम इच्छा को Narendra modi        (श्री नरेंद्र मोदी जी)  ने पूरा किया क्रन्तिकारी श्यामजी कृष्ण वर्मा जी इन की मिर्त्यु 1930 Switzerland (स्विटजजरलेंड) में हुई थी, और इन्होने मरते समय कहा था की “मेरी अस्थियाँ मेरे भारत देश में तब ले जाई जाएँ जब वो अंग्रेजों से आजाद हो जाये

1947 को जब हमे आजादी मिली तो भारत के पहले प्रधानमन्त्री ने इस क्रांतिकारी की इच्छा पूरी करते हुए इनकी अस्थियों को भारत लाना चाहिए था लेकिन एसा नही हुआ क्रन्तिकारी श्यामजी कृष्ण वर्मा जी की अस्थियाँ भारत आजाद होने के बाद भी 73 सालों तक इंतजार करती रही अपनी मुक्ति का की कोई आजाद भारत माँ का लाल आएगा और मुझे यंहा से लेजायेगा,

और फिर वो दिन भी आया जब मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री बने और काफी लम्बी कोशिश के बाद 22 अगस्त 2003 में स्विटजरलैंड गये और वंहा से इस भारत माँ के बेटे “क्रन्तिकारी श्यामजी कृष्ण वर्मा जी ” की अस्थियों को भारत लाये लेकिन किसी मिडिया ने नही दिखाया क्योंकि इनकी मानसिकता ही देश विरोधी हे और आज कल इन भांड किस्म के नेताओं को मोदी जी को कोसने से ही फुर्सत नही दोस्तों आने वाले समय में मोदी जी को ही चुने क्योंकि ये ही अपनी भारत भूमि के लिए ठीक होगा यदि किसी को कोई शंका हो इस खबर से तो इस लिंक पर जाकर देख सकता हे  Shyamji krishna varma
सुचना:- जो गद्दार हें वो दूर ही रहें