आंखों की बीमारी और बचने के उपाए

Eyes (आँखों) से सम्बन्धित बीमारियाँ आज सभी को होरही हें आज हर दुसरे तीसरे आदमीं को आँखों से सम्बन्धित बिमारियों से झुझना पड़ता हे आँखों में होने वाली बिमारियों में Pollution (प्रदुषण) का भी काफी योगदान हे, प्रदुषण के कारण आज इन्सान हो या कोई जिव जन्तु सभी को काफी गम्भीर प्रणाम भुक्त्ने पड़ें हे, Birds (पक्षियों) की तो काफी सारी प्रजातियाँ विलुप हो चुकी हें और होने की कगार पर हे,

आँखें हमारे शरीर में इश्वर की सुंदर रचना हे, आँखों के कारण ही हमं Nature (प्रक्रति) के सुंदर नजारों को देख पाते हें, इसलिए हमें अपनी Eyes को बिमारियों से बचाना चाहिए , आजकल बच्चों को Eyes Disease बहूत हो रही हे, बच्चों को ये बीमारियाँ सिर्फ इसलिए हो रही हें क्योंकि आज बच्चे दिनभर Television देखते हें, गलत भोजन करते हें जेसे चोमिन, Burger, Pizza, ETC. Parents को भी अपने बच्चों को इन गलत खान पान के बारे में बताना चाहिए बचपन से ही उन्हें जागरूक किया जाये तो वो इन गलत खान पान में नही पड़ेंगे 

आज में आपको इस Article में एसे Ayurvedic Tips बताऊंगा जो आँखों के लिए काफी फायेदेमंद साबित होंगे 

1- Madar Plant – आक का पोधा

आक एक एसा पोधा हे जो लगभग सभी शेत्रों में पाया जाता हे, ज्यादातर इन्सान ये ही मानता हे की आक का पोधा जेहरिला होता हे और ये इन्सान के लिए घातक होता हे, इसमें कुछ सच्चाई जरुर हे क्योंकि Ayurvedic संहिताओं में इसकी गणना उपविषों में की गयी हे यदि इसका सेवन अधिक मात्रा में करलिया जाये तो उलटी दस्त होकर मनुष्य यमराज के घर जासकता हे, इसके विपरीत यदि इसका सेवन उचित मात्रा में योग्य वेध की निगरानी में किया जाये तो इसका काफी अच्छा फायेदा होता हे, 
आँखों के लिए आक के ओषधिय प्रयोग 
1-  आक की छाल सुखी 1 ग्राम कूटकर, 20 ग्राम गुलाबजल में 5 मिनट तक रख कर छानलें बूंद बूंद आँखों में डालने से नेत्र की लाली, भारीपन, दर्द, और खुजली दूर होते हें ( सावधानी 3 बूंद से अधिक ना डालें)

2- आक की छाल को जलाकर कोयला करलें और इसे थोड़े पानी में घिसकर नेत्रों के चरों और तथा पलकों पर धीरे धीरे मलते हुए लेप करें, नेत्रों की लाली, खुजली, पलकों की सुजन आदि मिटती हे 

3- आँखें दुखनी आने पर यदि सीधी तरफ की आँख दुखती हो तो उलटे पैर का अंगूठा यदि उलटी तरफ की आँख दुखती हो तो सीधे पैर के अंगूठे को आक के दूध से तर कर लें.

2- Indian Gooseberry ,  Emblic Myrobalan – आवला 

आंवले का पेड़ पुरे भारत में सर्वत्र मिलता हे, आंवले को गुणों की खान भी कहा जाता हे, बागों में लगाए जाने वाले आंवले के फल बड़े और जंगली आंवले के फल छोटे होते हें, आंवले के पेड़ की पत्तियां इमली के पेड़ की पत्तियों के जेसी होती हें आंवला रसायन द्रव्यों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता हे 
आंवले में Vitamin c प्रचुर मात्रा में पाया जाता हे 

आँखों के लिए Gooseberry (आंवले) के ओषधिय प्रयोग 
1- 20 से 50 ग्राम आंवले के फूलों को कूट कर आधा किलो पानी में 2 घंटे तक उबालकर उस जल को छानकर दिन में 3 बार डालने से आँखों में बहूत लाभ होता हे 
2- 7 ग्राम आंवले कूट कर ठंडे पानी में तर करले 2 से 3 घंटो बाद उन आंवलों को निचोड़ कर फेक डे और उस जल में फिर दुसरे आंवले भिगोदें 2- 3 घंटे बाद उनको भी निचोड़कर फ़ेंक दें, इस प्रकार तिन चार बार करके उस पानी को आँखों में डालना चाहिए इससे आँखों की फूली मिटती हे.
3- आंवले का रस सुबह खाली पेट और शाम को सोते वक्त पिने से भी नेत्र रोगों में सुधर होता हे.
4- जब भी सब्जी बनाएं तो आंवले को सब्जी में डालदें और भोजन करने के बाद उस आंवले को खाले.
3- Pomegranate – अनार 
पुरे भारत में अनार के पेड़ पाए जाते हें, स्वाद के अनुसार अनार की 3 किस्में होती हें, भारत के अनार खट्टे मीठे होते हें , जबकि काबुल और कंधार के अनार मीठे होते हें, अनार का केवल फल ही नही बल्कि पूरा अनार का पेड़ ही गुणों की खान हे फल के बजाये कली और छिलके में अधिक ओषधियों गुण पाए जाते हें.
आँखों के लिए Pomegranate (अनार) के ओषधिय गुण 
1- अनार के 6 पत्तों को पानी में पिस कर दिन में 2 बार लेप करें और पत्तों को पानी में भिगो कर कपड़े में बांध कर आँखों पर फेरने से दुखती आँखों में लाभ मिलता हे.

2- अनार के 10 ताजे पत्तों का रस खरल में डाल कर शुष्क हो जाने पर कपड़े में छान कर रखदें, परतें सांय सलाई द्वारा लगायें इससे खुजली पलकों की खराबी नेत्रों के कई रोग खत्म होते हें 

अब कुछ एसी बातें जिनमें किसी ओषधि का प्रयोग नही होता परन्तु इनके फायेदे बहूत होते हें 
  • जब भी आँखें धोएं तो पहले मुह में पानी भरलें फिर आँखे बंद करलें और आँखों पर ठंडे पानी के छीटें मारें
  • रोज सुबह हाथो की हतेलियों को अच्छे से रगड़ें और आँखों पर लगालें.
  • एक कटोरी में ठंडा पानी डाललें फिर आँख को खोल कर उस पानी में डुबोलें फिर दायें बाएं उपर निचे घुमालें फिर दूसरी आँख से भी ये ही करें इससे आँखों को काफी फायेदा मिलता हे आँखें ठंडी होजाती हें.
  • सर्दियों में रोज गाजर का जूस पिएं आँखों की रोशनी ठीक करने में काफी साहयक हें 
  • रोज सुबह exercise  करें 

Note:- यंहा पर दिए गए किसी भी Ayurvedic नुस्खे का प्रयोग करने से पहले किसी योग्य वेध की सलहा अवश्य लें, क्योंकि Ayurvedic दवाओं का प्रयोग किसी वेध की निगरानी में ही करना चाहिए अन्यथा हानि भी होसकती हे हमारा मकसद लोगों को जानकारी देना हे हानी पोहचना नही किर्पया किसी वेध से सलहा अवश्य लें.

4 thoughts on “आंखों की बीमारी और बचने के उपाए

  1. dr.mahendrag

    हमारे देश में ये आजमाए हुए हानिरहित नुस्खे बहुत ही उपयोगी हैं.यह आँख को तो ठीक करेंगे ही साथ ही कई अन्य बीमारियों के निवारण में भी लाभ करते हैं विशेष कर अनार व आंवला.सीमा में रह इनका सेवन करना हमें कई रोगों से दूर रखेगा व यदि है तो उनके उपचार में सहायक होगा. सुन्दर सूचना दायी कृति के लिए आभार.

  2. bharat yogi

    जी बिलकुल यदि हम अपनी जिन्दगी में इन नुस्खों को अपनाएं तो एलोपेथी, अंग्रेजी दवाओं से बचा जा सकता हे

  3. hindi7

    बहुत ही बढ़िया, हमे सदैव इन बातों का ख्याल रखना चाहिए और साथ ही इन सब बातों पर अमल भी करना चाहिए,बहुत बहुत धन्यवाद इसे शेयर करने के लिए।
    Health Blogs in Hindi | Health Tips Hindi

    1. amit arya Post author

      जी बिलकुल यदि हम सभी इन छोटी छोटी बातों का ध्यान रहें तो अपने जीवन में सुधार लासकते है

Comments are closed.