Muslim जाती क्या भारत के लिए वफादार हे ?

 सीमा पर शहीद होने वाला सिपाही हिन्दू ही क्यूँ होता हे और हर आतंकवादी मुस्लिम ही क्यूँ होता हे
Muslim जाती ने मानवता को जितना नुक्सान प्होंचाया हे शायद ही किसी और जाती ने प्होंचाया हो यदि मेरी बात पर यकीं ना हो तो इतिहास को उठा कर देख सकतें हें  सबसे ज्यादा हेवान और क्रूर कहें तो Muslim जाती के लोग ही रहें हें इस जाती ने इस समाज को सबसे बड़ी शती पोहोंचाई हे जबसे मुस्लिम धर्म की स्थापना हुई हे तबसे इनके लुटेरे भारत पर आक्रमण करते रहें हें इसमें गलती हमारी भी हे क्योंकि हमारे राजाओं ने आक्रमण निति न अपनाकर सदेव ही रक्षात्मक निति अपनाई हे

Bharat के एक वीर राजा  (पृथ्वीराज चौहान) prithviraj chauhan ने यदि (मोहमद गोरी) mohammad ghori को शमा करने के बजाए उसकी गर्दन धड से अलग करदी होती तो आज वर्तमान भारत कुछ और ही होता जब तक पृथ्वीराज चॊहान जीवित रहें किसी भी मुस्लिम आक्रांत की हिमत नही थी इस भारत भूमि में अत्याचार करने की पृथ्वीराज चोहान से मुस्लिम लुटेरे इतने ज्यादा खोफ खाते थे की उनके इतिहासकारों ने पृथ्वीराज चोहान को राये पिथोरा के नामसे वर्णित किया हे अपने इतिहास में

क्या इस संसार  में कोई एसा देश भी हे जन्हा मुस्लिमों की संख्या ज्यादा होने के बावजूद वंहा पर किसी और धरम के लोग ख़ास तोर पर हिन्दू धर्म के लोग फल फुल रहें हों जवाब तो एक ही हे एसा कोई देश नही हे हाँ लेकिन इसका उल्टा जरुर हे भारत एक ऐसा देश हे जन्हा पर सभी धर्मों के लोग ख़ास तोर पर मुस्लिम धरम के लोग हिन्दुओं से अधिक फल फुल रहें हें और एसा फुल रहे हें की 5 ,10 बच्चे पैदा कर रहें हें

अभी कुछ दिन पहले बांग्लादेश में दंगे हुऎ थे जिसमें शिकार सिर्फ और सिर्फ हिन्दू बने क्यूँ क्या इनका कोई कसूर था नही इनका कोई कसूर नही था लड़ाई तो मुसलमानों की अपनी सरकार के खिलाफ थी क्योंकि वो एक मुस्लिम आतंकवादी को बचाना चाहते थे लेकिन उन लोगों ने हिन्दुओं को अपना शिकार बनाया क्योंकि हिन्दू वंहा पर कम हें

मुस्लिमों की ये फितरत रही हे पहले ये आपसे दोस्ती करेंगे और अपनी संख्या बढ़ाएंगे फिर ये आप लोगों का कत्लेआम करेंगे आपकी बहन बेटियों के साथ में ब्द्से भी बदत्तर वेय्व्हार करेंगे पाकिस्तान में और अब बांग्लादेश में यही तो होता आरहा हे

ओरंगजेब जेसे लुटेरों ने ना जाने कितने हिन्दू परिवारों पर अत्याचार किये और उनका धर्म परिवर्तन करवाया और ये ओरंगजेब क्या सभी मुस्लिम शाशक ऐसे ही रहे हें मानवता तो इनमें कभी रही ही नही क्यूँ नही रही इसका भी एक कारण हे क्योंकि इनके समाज में छोटे छोटे बचों के सामने ही मुर्गे बकरों की बलि दी जाती हे

अभी की कुछ घटनाएँ जिसमें मुस्लीमों का आतंक  साफ़ दीखता हे 


;-१  जम्मू कश्मीर के
किश्तेवार जिले मैं मुस्लिमों  ने ईद के बाद हिन्दुओ
के 300 घरो को आग लगा दी और 8 से
ज्यादा हिन्दुओ को मार दिया है ऒर भारत 
विरोधी नारे लगाये और
पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाये है ।
आज पूरा जम्मू कश्मीर बंद है इस न्यूज़
को मीडिया भी नहीं दिखा रही क्योंकि
न्यूज़ ना दिखाने को सरकार डर रही है
 
२-ये मुस्लिम नेता हिन्दुओं को काटने की  बात कहता हे 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 ३-
क्या आप को पता हैँ कि हमारे देश के मुसलमान
अपनी मातृभूमि के प्रति कितने वफादार हैँ …..
तो सुनो भारतीय मुसलमानोँ ने 8,00,000
काश्मिरी पंड़ितो को काश्मिर से भगाया और जो भाग
न सके उसके घर कि औरतो का बलात्कार
किया गया और बाद मेँ उन सबको मार दिया ,
ओवैशी 15 मिनट मेँ 100 करोड़ हिँदूओँ को काटने
की बात करता हैँ , BSP के नेता वंदे मातरम्
को ईस्लाम के खिलाफ मानते हैँ , अबु आजमी रोज
हिँदू और भारत माता को गालीयाँ देता हैँ और तो और
भारत कि Muslim Regiment ने 1971 के युद्ध
मेँ पाकिस्तान पर हमला करने से मना कर दिया था .
मतलब सुविधा, आरक्षण, पैसा, हज कि यात्रा सब
मुफ्त चाहिए, लेकिन जब देश के प्रति योगदान देने
कि बात आति हैँ तो ये मुकर जाते हैँ
या पाकिस्तानियोँ का साथ देते हैँ ।
क्या आपको पता हैँ भारत के मुसलमानोँ का अपने देश
के प्रति योगदान सिर्फ़ 1.6% हैँ, जब कि भारत मेँ
जितने भीँ गुनाह होते हैँ उसमेँ ईनका योगदान 48.4%
हैँ ।
 ४- घर के बहार बबूल का पेड़ …..और…….. मूसलो (सुन्नी मुस्लमान) की दोस्ती कभी ना करे ll

मुस्लिमो के द्वारा की गयी धोखेवाजी के प्रमाण

1-मुहम्मद गौरी ने 17 बार कुरआन की कसम खाई थी कि भारत पर हमला नहीं करेगा, लेकिन हमला किया…..

2 -अलाउद्दीन खिलजी ने चित्तोड़ के राणा रतनसिंह को दोस्ती के बहाने बुलाया फिर क़त्ल कर दिया…..

3 -औरंगजेब ने शिवाजी को दोस्ती के बहाने आगरा बुलाया फिर धोखे सेकैद कर लिया ……

4 -औरंगजेब ने कुरआन की कसम खाकर श्री गोविन्द सिंह को आनद पुर से सुरक्षित जाने देने का वादा किया था. फिर हमला किया था…….

5 -अफजल खान ने दोस्ती के बहाने शिवाजी की ह्त्या का प्रयत्न किया था….

६-मित्रता की बातें कहकर पाकिस्तान ने कारगिल पर हमला किया था…..

“अगर हम इतिहास से सबक नहीं लेकर मुसलमानों की शांति और दोस्ती की बातों मे आते रहे तो हमेशा नुकसान उठाते रहेंगे….

याद रखिये मुसलमान तकिया और कितमान पर ईमान रखते है,यानी उनकाकोई ईमान नहीं है ……