REAL HERO आइए जानेँ एक हीरो को फिल्मोँ वाला नहीँ रियल वाला

 आई जानेँ एक हीरो को फिल्मोँ वाला नहीँ रियल वाला  आईये जाने नारायण कृष्णन जी को  एक भारतीय फ़ाइव स्टार होटल में कार्यरत युवक जिसे स्विटज़रलैण्ड में शानदार नौकरी का ऑफ़र मिला था, लेकिन उसी दिन मदुराई मन्दिर जाते समय इस युवक ने एक भूखे बेसहारा व्यक्ति को अपना ही मल खाते देखा और वह भीतर तक हिल गया, पल भर में उसने उस हजारों डालर वाली नौकरी को अलविदा कह दिया और मानवता की सेवा में अपना जीवन समर्पित कर देने का फ़ैसला कर लिया।  कृष्णन रोज़ाना सुबह चार बजे उठकर अपने हाथों से खाना बनाते हैं, फ़िर अपनी टीम के साथ वैन में सवार होकर मदुरै की सड़कों पर औसतन 200 किमी का चक्कर लगाते हैं तथा जहाँ कहीं भी उन्हें सड़क किनारे भूखे, नंगे, पागल, बीमार, अपंग, बेसहारा, बेघर लोग दिखते हैं वे उन्हें खाना खिलाते हैं… यह काम वे दिन में दो बार करते हैं। औसतन वे रोज़ाना 400 लोगों को भोजन करवाते हैं, तथा समय मिलने पर कई विकलांग और अत्यन्त दीन- हीन अवस्था वाले भिखारियों के बाल काटना और उन्हें नहलाने का काम भी कर डालते हैं।  ...शत शत नमन इस असली हीरो को

 REAL HERO
आईये जाने नारायण कृष्णन जी को

एक भारतीय फ़ाइव स्टार होटल में कार्यरत युवक जिसे स्विटज़रलैण्ड में शानदार नौकरी का ऑफ़र मिला था,
लेकिन उसी दिन मदुराई मन्दिर जाते समय इस युवक ने एक भूखे बेसहारा व्यक्ति को अपना ही मल खाते देखा और वह भीतर तक हिल गया, पल भर में उसने उस हजारों डालर
वाली नौकरी को अलविदा कह दिया और मानवता की सेवा में अपना जीवन समर्पित कर देने का फ़ैसला कर लिया।

कृष्णन रोज़ाना सुबह चार बजे उठकर अपने हाथों से खाना बनाते हैं, फ़िर अपनी टीम
के साथ वैन में सवार होकर मदुरै की सड़कों पर औसतन 200 किमी का चक्कर लगाते हैं तथा जहाँ कहीं भी उन्हें सड़क
किनारे भूखे, नंगे, पागल, बीमार, अपंग, बेसहारा, बेघर लोग दिखते हैं वे उन्हें खाना खिलाते हैं… यह काम वे दिन में
दो बार करते हैं। औसतन वे रोज़ाना 400 लोगों को भोजन करवाते हैं, तथा समय मिलने पर कई विकलांग और अत्यन्त दीन- हीन अवस्था वाले भिखारियों के बाल काटना और उन्हें नहलाने का काम भी कर
डालते हैं।

…शत शत नमन इस असली हीरो को

3 thoughts on “REAL HERO आइए जानेँ एक हीरो को फिल्मोँ वाला नहीँ रियल वाला

  1. Manoj Sharma

    हृदय से मेरा भी प्रणाम इस असली इंसान को …..इसे इस धरती पर लाने वाले माता – पिता को भी शत-शत नमन ,

  2. dr.mahendrag

    कृष्णन वास्तव में रियल हीरो हैं,आज समाजसेवा के नाम पर कई लोगों ने अपनी दुकानदारी लगा रखी है,इसके नाम पर सरकार से अनुदान भी लेते हैं,और पैसे जेब में रखते हैं.गत दिनों हमारे एक मंत्री महोदय की पत्नी का तथाकथित एन जी ओ बच्चों के नाम पर घपले करने के लिए ख़बरों में रहा था.विदेशों में नौकरी का इतना अच्छा ऑफर ठुकरा कर कमजोर लोगों की सहायता करना वह भी तन मन और धन से ,कोई बिरला ही कर सकता है.सच में ऐसी हस्ती को नमन है.जो अपने आप को हस्ती नहीं मानता.

  3. sunil malik

    ऐसे इंसान को शत शत नमन और ऐसे इंसान को जनम देने वाली माता और पित्ता. को शत शत नमन.
    जय हिन्द जय भारत

Comments are closed.