islam में बुर्के की शुरुआत क्यों और कैसे?

 दोस्तों आप सभी के लिए कुछ रोचक कहानी पेस कर रहा हूँ में internet पर कुछ ढूंड रहा था और खोजते खोजते एक वेब साईट पर प्होंचा और यंहा पर जो मेने लेख पढ़ा तो सोचा इस सच्चाई को सभी को बताना चाहिए तो मेने अपनी वेब साईट पर ये लेख दे दिया हे और साथ ही ये लिंक भी जन्हा पर मेने इसे पढ़ा था

 

http://www.oyepages.com/blog/view/id/515a92febc54b26e05000000

क्या आप जानते हैं कि…… इस्लाम में बुर्के की शुरुआत क्यों और कैसे हुई है…????

दरअसल … बुर्के की कहानी जानने से पहले हमें आज से लगभग १४०० साल पहले के अरब और मिस्र को जानना होगा…!

यहाँ यह … यह सर्वविदित है कि……. मुहम्मद के समय अरब के लोग…… मुहम्मद के सामान ही लुटेरे, अय्याश और अत्याचारी रहे…… और, उस समय औरतें बाजार में बिकती थी.
उस समय अरब की हालत यह थी कि…… हिन्दा नाम की औरत ने तो अमीर हमजा का सीना चीरकर उसका कलेजा तक चबा लिया था…..!
इसके अलावा…… उस समय की अरबी औरते अनपढ़ ,अन्धविश्वासी और मूर्ख थीं….!
यहाँ तक कि…. इस्लाम के प्रतिपादक और अल्लाह के तथाकथित रसूल मुहम्मद की भी सारी औरतें अनपढ़ थी ,और अधिकांश अन्धविश्वासी थीं……इसलिए वे वासना पूर्ति और अपना पेट भरने के लिए मुहम्मद के पास जाती थी….क्योंकि….. उन्हें डर था कि कहीं उन्हें भी कोई लूट कर बेच न दे….!
लेकिन…. अब असली कारण और बुर्के की शुरुआत पर आते हैं…..!

                                                                                                                                         पूरा लेख पढ़ें