आयुर्वेदिक नुस्खे से तयार होंगी एलोपेथी की दवाएं

भयंकर बिमारियों में उपयोगी आयुर्वेदिक दवाओं के नुस्खों को अब एलोपेथिक दवा बनाने में आजमाया जाएगा सिडिअराई-एनबीआराई और सीमेप को आयुर्वेदिक फार्मूले पर एलोपेथिक दवाएं बनाने की हरी झंडी मिल चुकी हे। वेज्ञानिक ओधोगिक अनुसन्धान परिषद् ( सीएसआईआर ) जल्द ही इसकी सुरवात करने जारहा हे । यें दवाएं सस्ती भी होंगी और इनका कोई साइड एफ्फेक्ट भी नहीं होगा ।
सीएसआईआर के डीजी समीर ब्रह्चारी ने बतायाकी आयुर्वेदिक फार्मूले पर टीबी, मलेरिया, डेंगू, और कालाजार जेसी बिमारियों की एलोपेथिक दवाएं बनाईं जाएंगी । इससे गरीबों को सस्ती और कारगर दवाएं बाजार में मिलेंगी । उन्होंने बताया की विदेशो में और्वेद की नकल करके एलोपेथिक दवाएं बनाई जारही हें । सीएसआईआर ने इन दवाओं को भारत में केंसल करने का प्रोसेस सुरु करदिया हे। अभी तक 33 दवाओं को बेन कर दिया गया हे । उन्होंने बताया की विदेशों में और्वेदिक फार्मूले की नकल कर बनाए जारहे दवाओं पर प्रभावी रोकथाम लगाने के लिए सीएसआईआर 2000 और्वेदिक फार्मूले पर आधारित एल्पेथिक मेडिसन बनाकर उनका पेटेंट करेगी । इस पर परिषद् ने काम भी सुरु करदिया हे ।

2 thoughts on “आयुर्वेदिक नुस्खे से तयार होंगी एलोपेथी की दवाएं

  1. dil

    bhoot khub "आयुर्वेदिक नुस्खे से तयार होंगी एलोपेथी की दवाएं"

Comments are closed.