शवासन के बारे में पूरी जानकारी savasana benefits in hindi

शवासन savasana in hindiशवासन यानी की शव के समान आसन जिस प्रकार शव याने मरे हुए इंसान में कोई हलचल नही होती उसी प्रकार इस आसन में भी कोई हलचल नही होती। आजके मनुष्य की जीवन शैली काफी बेकार हो चुकी है जिसके कारण उसे अनेको रोग होने लगे है। आज के इंसान को टेंसन भी काफी रहती है जिसके कारण रात को नींद भी अच्छी नही आती। यदि आप इस शवासन को करना सिख ले तो आपको काफी सारे लाभ होंगे और आपका दिन काफी अच्छा बीतेगा तो आइये जानते है शवासन कैसे करते है।

शवासन करने का तरीका

1, किसी साफ़ सुथरी और हवादार स्थान का चुनाव करे।

2, अब एक साफ़ दरी बिछाकर जमींन पर लेट जाइए।

3, अब पुरे शरीर को ढीला छोड़ दीजिये ध्यान रहे पैर के अंगूठे से लेकर सिर की छोटी तक कंही भी किसी भी प्रकार की हलचल ना होने पाय।

4, अब एक बार पैर के अंगूठे से सिर की चोटी तक निरीक्षण कीजिये कंही कोई हलचल ना हो।

5, अब अपना पूरा ध्यान अपनी साँसों पर केंद्रित कीजिये।

6, पुरे शरीर को भूल जाइए और पूरा ध्यान सिर्फ साँसों पर ही लगा दीजिये।

7, कुछ ही देर में आपको विचार आने लगेंगे तभी सावधान हो जाइये और अपनी साँसों पर वापस ध्यान केंद्रित कीजिये।

8, इस आसन को आप अपनी सुविधा के अनुसार कितने भी समय तक कर सकते है। और इस आसन को करते हुए ही रात को आप सो भी सकते है।

शवासन के लाभ

1, जिनको रात को नींद नहीं आती उन्हें इस शवासन को करने से अच्छी नींद आती है। यदि आपको नींद नहीं ऑटो तो आप ये आसन जरूर कीजिये।

2, उच्च रक्तचाप के रोगियो को इस आसन से काफी लाभ हुआ है । इस आसन को करने से आपका उच्च रक्तचाप का रोग जल्दी ही ठीक होगा।

3, ये आसन तनाव को कम करता है।

4, दिमाग तेज होता है।

सावधानी, किसी भी आसन को उचित शिक्षक की देख रेख में ही करे।

मित्रो उमीद है की आपको ये लेख पसन्द आया होगा और आप इस लेख से लाभान्वित होंगे। अपने मित्रो से भी इस लेख को शेयर जरूर करे।

चक्रासन कैसे करें 

चक्रासन करने का तरीका chakrasana benefits and steps hindi

चक्रासन chakrasana benefits hindiचक्रासन जैसा कि नाम से ही ज्ञात हो जाता है की ये आसन चक्र के समान है इसिलिय इसे चक्रासन काहा जाता है। ये आसन बिलकुल पहिये के समान होता है इसीलिये इस लाभकारी आसन को wheel pose भी काहा जाता है। ये आसन हमारी रीड की हड्डी के लिये सबसे अच्छा आसन है। आइये अब जानते है चक्रासन को करने की विधि।

चक्रासन की विधि

1, सबसे पहले किसी साफ़ और हवादार स्थान का चयन करे और एक साफ़ दरी लीजिये।

2, अब बिलकुल सीधे पीठ के बल लेट जाइये।

3, अब दोनों पैरो को मोड़ लीजिये और अपनी एड़ियों को कूल्हों तक लाइये पेरो के बिच में थोडा अंतर रखिये।

4, दोनों हाथो को कोहनियों से मोड़कर अपने कन्धों के पास लाइए ध्यान रहे हथेली का ऊँगली वाला हिस्सा कन्धों की तरफ मोड़लें।

5, अब स्वांस भर लीजिये।

6, अब अब हथेलि और पैरो को जमीन पर मजबूती से टिकाते हुए पेट और छाती को ऊपर उठाइये।

7, अब इस अवस्था में 30 सेकिण्ड रुकिए।

8, जब तक इस आसन में रुके साँसों को आने जाने दीजिये।

9, अब सांस छोड़ते हुए वापस जमीन पर आजाईये और पैरो को सीधा करले और हाथो को भी वापस निचे की तरफ लाइए। अब शवासन में आराम कीजिये। इस आसन के बाद इस आसन का विपरीत आसन जरूर करे। जैसे आगे झुकने वाले आसन आदि।

चक्रासन के लाभ

1, रीढ़ की हड्डी लचीली बनती है।

2, कब्ज जैसे रोग दूर होते है पाचनतंत्र अच्छा रहता है।

3, मोटापा कम होता है, कमर के आस पास की चर्बी घटती है।

4, छाती चोडी बनती है, कन्धे मजबूत बनते है।

सावधानी- किसी भी आसन को आचार्यो की देख रेख में ही सीखे।

दोस्तों उमीद है ये लेख आपको पसन्द आया होगा अपने मित्रो के साढ़े शोसल मिडिया पर इस लेख को शेयर जरूर करे। यदि आपका कोई सवाल है तो कमेन्ट के माध्यम से आप हमसे पूछ सकते है । हमे आपकी सहयता करते हुए ख़ुशी होगी।

meditation tips in hindi

body care के घरेलु उपाय जानिए शरीर को स्वस्थ और सुंदर रखिये

body care in hindibody care सौन्दर्य परमात्मा का स्वरूप है। शरीर को स्वस्थ (body care) और सुन्दर बनने के लिए श्रम करते रहना ही पूजा अर्चना है और अपने-आपको सुन्दर तथा रूपवान बनाकर समाज में रहना ही परमात्मा तत्त्व का बोध है; भीतर से और बाहार से सुन्दर बन कर रहे, सभी आपको चाहेंगे। body care के लिए सुन्दर बनने के लिए निम्न उपाय काम में ले।

body care tips in hindi – शरीर को स्वस्थ और सुंदर बनाने के देसी नुस्खे

हरड के फायदे

सुन्दरता बनाये रखने में हरड़ महत्वपूर्ण है। चाय वाली दो चम्मच हरड़ की गर्म पानी से रात्रि को हर चौथे दिन लेने से शरीर के विषाक्त द्रव्य बाहर निकल जाते हैं। हरड़ स्वयं स्सायन द्रव्य होने से शरीर में शक्ति – स्कूर्ति बनी रहती है।

सलाद के फायदे

 भोजन में पत्तागोभी, गाजर, टमाटर, ककडी, मूली आदि की कच्ची सलाद खाने से शारीरिक सौन्दर्यं बना रहता है।

हल्दी के फायदे

कच्ची ताजा हल्दी की चटनी खाने से या सब्जी में खाने से त्वचा का रंग गोरा रहता है, रक्त शुद्ध होता है।

काले धब्बे खत्म करेंने का तरीका

ककड़ी और टमाटर के रस को मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे के काले धब्बे दूर हो जाते हैं।

आलू के फायदे

आलूको पीसकर शरीर पर मलें। त्वचा काँतिमय हो जायेगी। उबाले हुए आलू के पानी से शरीर को धोने से त्वचा साफ और सुन्दर हो जाती है।

शहद के फायदे

शहद त्वचा पर दो घंटे लगा रहने दें । इसके बाद गर्म पानी से धोये l त्वचा पर चमक आ जायेगी।

मसूर की दाल के फायदे

मसूर की दाल नीबू के रस में दिन में भिगो दें। फिर पीस कर रात को । चेहरे पर लेप करें दूसरे दिन प्रात: मुँह धोये, मुख का सौन्दर्य बढ जायेगा।

स्तन

ढीले ओर लटके हुए स्तनों को सुन्दर बनाने के लिए कसरत करें । सीधे सो जायें गहरा श्वास लेकर अपने सिर को सोते सोते ही पीछे की तरफ ले जाएँ और साथ-साथ छाती के हिस्से को ऊँचा लेते जाएँ, इस व्यायाम से ढीले स्तन में कसाव आयेगा, यह 10 मिनट प्रतिदिन सुबह खली पेट 1 महिना करें,

माजूफल घिसकर शहद में मिलाकर स्तनों पर लेप करें और दो घंटे बाद धोएं, रात्री को बादाम रोगन की मालिश करें,

पिली सरसों और चिरोंजी समान मात्रा में गाय के दूध में दो घंटे भिगोकर पीस कर गर्म करके रात्री को चेहरे पर लेप करें, दुसरे दिन सुबह: चेहरा धोये , चेहरा चमकने लगेगा,

त्रिफला चूर्ण नींबू के रस में भिगोकर चेहरे पर लेप करें, आधा घंटे बाद चेहरा धोएं, सोंदर्य निखर उठेगा,

दो चम्मच पिसी हुई हल्दी, 5 चम्मच बेसन, दो चम्मच सरसों का तेल तथा पानी मिलाकर, गूँथ कर त्वचा पर मर्ता इस उबटन से सोन्दर्य बढता है। गर्दन पर नीबूरगड़ कर साफ करें। फिर दूध मले। गर्दन सुन्दर दिखने लगेगी।

body care tips in hindi, body care tips, beauty tips in hindi, body fairness tips in hindi language, face fairness tips in hindi, face pack for fairness in hindi, beauty tips

त्वचा की देखभाल करने के आयुर्वेदिक नुस्खे घरेलु उपाय

skin care in hindiskin गर्मी में तवचा की देखभाल करना काफी जरूरी हो जाता है । यदि हम सभी आयुर्वेद का सही इस्तेमाल करे को हमें कोई भी skin diseases तवचा का रोग नहीं होगा । आयुर्वेद वेदों के दवारा हम मनुष्यों को डिगे अनमोल दें है । वेदों से ही आयुर्वेद भारत के दवारा इस पुरे संसार में फैला है । यदि हम आयुर्वेदिक नुस्खो का सही से इस्तेमाल करे तो हमें skin के रोगों से छुटकारा पा सकते है । यदि आप आयुर्वेदिक नुस्खो से अपनी skin problems को दूर करेंगे तो आपको कोई भी इसका side effect नहीं होगा ।

skin treatment in ayurveda in hindi (तवचा को सुन्दर बनाने के आयुर्वेदिक नुस्खे)

त्वचा के रोग होने के कारण

1:- यदि आपको अधिक तनाव रहता है तो भी आपको तवचा से सम्बन्धित रोग हो सकते है ।

2:- यदि आप ठीक भोजन नहीं करते सही पोषक तत्व आपको नहीं मिलते तो भी आपको तवचा के रोग होंगे ।

3:- अचानक मोसम बदलने के कारण भी तवचा के रोग होजाते है ।

4:- जब आपकी उम्र बढ़ेगी तब भी आपको तवचा से सम्बन्धित रोग होंगे ।

5:- जो व्येक्ती चाय अधिक पीते है उन्हें भी ये skin problems होती है ।

skin treatment in hindi

1:- पानी पिने के फायदे

skin के रोगों को दूर करने के लिए आप खूब सारा पानी पीना शुरू कीजिये । रात को आप ताम्बे के बर्तन में पानी भर कर रख दीजिये और सुबह खाली पेट इस पानी को पीजिये आपको इसके फायदे खुद ही दिख जायेंगे । बाकी के पुरे दिन में गर्मियों में तो खास तोर पर हर 1 घंटे में एक गिलास पानी पीजिये । ये पानी आपकी तवचा को खुबसारा पोषण देगा और आपकी तवचा तरो ताजा रहेगी। इसीलिए खूब सारा पानी पीजिये । और दुसरो को भी बताइए ।

2:- तवचा के लिए हरी सब्जी के फायदे

हरी सब्जी खाने में जितनी स्वादिष्ट होती है वैसे ही इसमें गुण भी होते है । यदि आप रोज हरी सब्जी खायेंगे जैसे, पालक , धनिया, बथुआ, सरसों आदि तो आपको इसके काफी सरे लाभ होंगे । और आपकी skin भी अच्छी रहेगी हरी सब्जी गुणों की खान है । हरी सब्जी खाने से आपके शारीर में खून बढेगा और चेहरे पर चमक आयेगी ।

3:- खीरे के फायदे

यदि आप खीर खाते है तो आपको अनेको फायदे होंगे और ये आपकी चमड़ी के लिए भी काफी फायदे का है । आँखों के काले घेरे खतम करने के लिए आँखों पर खीरे का टुकड़ा रखिये आँखों को ठंडक भी मिलेगी और कला घेरा भी दूर होगा ।

4 :- रोज व्यायाम कीजिये

आपको रोज खूब व्यायाम करना चाहिए । रोज सुबह खूब व्यायाम कीजिये आप जब व्यायाम करते है तो आपका खून साफ होता है और नया रक्त बनता है । खून साफ होने के कारण आपकी skin glow होती है skin glow

5:- बहार का खाना बंद कीजिये

कभी भी बाहार का खाना नहीं खाना चाहिए इसमें काफी अधिक मिर्च मसाला होता है । फास्टफूड जैसा जेहरिला खाना आपके शारीर में जेहर बनता है । जिसके कारण आप अनेकों रोगों से घिर जाते है ये खराब तेल में बनता है । आप घर पर बनाकर खाइए आपकी सेहत के लिए काफी अच्छा रहेगा ।

6:- प्राणायाम करने से फायदा

आप रोज सुबह जल्दी उठिए और सोच आदि से निवर्त होकर खुली हवा में घुमने जाइये। और वंहा कुछ देर टहल कर फिर किसी नदी या तालाब के पास आसन लगाकर बेथ जाइये । यद् आपके पासमें स्वच्छ पानी का तालाब या नदी नहीं है तो किसी भी खुली जंघा पर बैठ सकते है । अब कमर गर्दन सीधी रखते हुए आराम आराम से लम्बी गहरी सांस लीजिये और जब पुरे छाती पेट हवा से भर जाए तो धीरे धीरे नाक से ही खली कर दीजिये । एसा कम से कम 10 बार जरुर करें । इस प्राणायाम को करने से आपका खून साफ होगा । फेफड़ों को शुद्ध ऑक्सीजन मिलेगी और आपका skin glow होगी ।

 चेहरे को सुन्दर कैसे बनाएं

दोतो उमीद है आपको ये जानकारी पसंद अयिहोगी आप अपने मित्रो के साथ इस जानकारी को जरुर शेयर कीजिये ।

नमस्ते , जय आर्यवर्त

#face care in hindi , #skin care hindi, skin care at home in hindi, skin diseases in hindi, twacha ki dekhbhal in hindi, चेहरे पर चमक कैसे लाये, चेहरे पर चमक लाने के घरेलू उपाय, चेहरे पर चमक लाने के लिए योग

child education छोटे बच्चो को समझाने का तरीका

प्रश्न : छोटे बच्चे (children) भगवन का रूप होते हैं, तो क्या उनको सजा देना अच्छी बात है?

उत्तर : जो छोटे बच्चे (children) होते हैं, आपने कहा कि वो भगवान का रूप होते है। अच्छा, भगवान गलतिया करता है, क्या? हां या न? नहीं करता। तो भगवान तो गलती करता नहीं, और बच्चे गलतियां कर रहे हैं, तो बताइए, भगवान का रूप कहॉ हुआ? अगर बच्चे छोटे हैं और आप उनको भगवान का रूप मानते हैं. तो वो गलती नहीं करेंगे। जो बच्चे गलतियां कर रहे हैं, तो वो भगवान का रूप नही हैं। तो जो बच्चे भगवान का रूप है वो गलती करेंगे, नहीँ। और जो गलती करेंगे ही नहीं, तो उनको क्यो दण्ड देना? वो तो अन्याय है। इसलिए जो बच्चे अच्छे हैं, बुद्धिमान हैं, धार्मिक है, सीधे सरल हैं, जो गलती नहीं करते उनको दण्ड नहीं देंगे। अब जो बच्चे गड़बड़ करते है, अनुशासन में नहीं रहते हैं, शांति से नहीं रहते, झूठ बोलते हैं, झगडा करते हैं, शोर मचाते हैं, तोड़-फोड़ करतै हैं, बताने पर भी नहीं समझते, नहीं मानते, तो उनको दण्ड देना पड़ेगा।

child education in hindiबच्चा हो, बूढा हो या जवान हो, दण्ड सबके लिए है। दण्ड कैसा हो, ये ध्यान देने की बात है। हमारे ऋषिगण विद्वान लोग बताते हैं कि, पाँच साल से कम उम्र के बच्चे, छोटे बच्चे, उनको पीटना नहीँ चाहिए, उनको थप्पड़ नहीं मारना चाहिए, उनको डण्डा नहीं मारना। उनको दो बार…चार बार, बातचीत से, प्रेम से समझाइए। बेटा, शोर मत करो, शांति से बैठो, हमको काम करने दो। घर में आपके अतिथि आएं हैं. मेहमान आए हैं, आप उनसे बात कर रहे हैं, और बच्चे वहॉ शोर मचा रहे हैं, बात नहीं करने देते। यहां उनको प्रेम से समझाएंगे कि बेटा, शोर मत करो, हमको बातचीत करने दो, घर में अतिथि आए हैं, ऐसे दो बार, चार बार, उनको प्रेम से समझाइए।

जब प्रेम से समझाने पर भी नहीं मानते, फिर उनको डांट लगाएं, आँख दिखाएं, चलो-चलो, चुप…चुप, शोर नहीं करना, चलो उधर के अपनी पढाई, करो। ऐसे डांट भी लगा सकते हैं, आँख भी दिखा सकते हैं, थोडा सा डरा सकते हैं।

कोई…कोई बच्चे ज्यादा अडियल होते हैं, वो इतने से भी नहीँ मानते हैं। उनका भी इलाज यह है कि बच्चा तीन साल का है, और बार-बार बताने से डांटने से, बार…बार आँख दिखाने से भी नहीं मानता, तब भी इसको थप्पड नहीँ मारना। उसका फिर आखिरी इलाज ये है कि आप उससे बात मत कीजिए। उससे बात करना बंद कीजिये आप भी उससे ये कहिए कि, ‘तुम हमारी बात नहीं मानते, हम तुमसे बात नहीं करते, जाओं। इधर मुँह घुमाकर बैठ जाओ। देखना, दो मिनट
में बच्चा ठीक हो जाएगा, उसको थप्पड मारने की जरूरत नहीं है। तीन साल का, चार साल का बच्चा उसको कहिए, तुमको अच्छा खिलौना नहीं देंगे, तुमको अच्छी मिठाई नहीँ खिलाएगे, ये सुविधा तुम्हारी बंद कर देंगे। बस उसके लिए
इतना दण्ड काफी है. थप्पड नहीँ मारेंगे।

जब बच्चा पॉच साल से बडा हो जाए। आजकल के माहौल को देखते हुए आखिरी सीमा बारह वर्ष पाँच से बारह वर्ष तक की जो एज ग्रुप है, इस उम्र के बच्चों को गलती करने पर पहले प्रेम से समझाएं कि, ”ये गलत काम है, मत करो। ये ठीक काम है ये करो।” दो बार. चार बार, प्रेम से कहिए जब नहीं मानते, तो फिर डॉट लगाइए, फिर डाँट से भी नहीं मानते, तो फिर थप्पड लगाइए, एक, दो, ज्यादा नहीँ। ऐसा नहीं कि आपको गुस्सा आ गया, तो आप पीटते रहें, पीटते रहें। गुस्सा उतारने के लिए नहीं पीटना बच्चे को, उसकी गलती को सुधारने के लिए उसको थोडा सा दण्ड देना, ताकि उसके दिमाग में यह डर
बना रहे “यदि मै गलती करूंगा, तो मुझे दुख भोगना पडेगा, दण्ड मिलेगा।” बस दण्ड का प्रयोजन इतना ही है, कि सुधार करना।

अगर वो दो थप्पड़ खाकर सुधर जाता है. तो दो ही मारो। और दो से नहीं सुधरता है, तीन-चार खाने पड़ते हैं, तब सुधरता है, तो उतने हिसाब से उसको थोडा सा दण्ड अधिक दिया जा सक्ता है। पर दण्ड देते समय ये ध्यान रखें, उसके शरीर का नुकसान न हो जाए। आपने थप्पड मारा, उसका क्या बिगड गया, उसकी आँख खराब हो गई, आँख में उंगली लग गई, ऐसा न हो।

सावधानी से दण्ड दें, उसका नुकसान न हो, उसका सुधार हो जाए, बस इतना ही प्रयोजन है। और फिर उसको इस तरह से बताएं कि “तुम्हारा टीवी. देखना बंद कर देंगे, तुम्हारा कार्टून देखना बंद कर देंगे ।” इस-इस तरह से उनको क्या दिए जा सकते हैं। ओंर कभी-कभी धमकी भी लगाई जा सकती है। किसी भी तरह से न मानें तो फिर उसको धमकी लगाएं- ‘तुम हमारी बात नहीं मानोगे तो हम तुम्हें घर से निकाल देंगे। तुम्हें घर में नहीं रखेंगे। जाओं, अपना कमाओ और खाओ। हम तुमको न तो स्कूल की फीस देंगे, न खाना देंगे, न यूनीफोंर्म, कुछ नहीं देंगे। जाओं, निकल जाओं यहॉ से।” ऐसी धमकी भी दे सकते हैं। पर वो जरा सावधानी से देनी पड़ेगी। ये जरा आँपरेशन वाला काम है, सर्जरी वाला काम है, दस-बारह साल के बच्चे तक को आप धमकी दे सकते हैं, इससे इससे बड़ा हो जाए, यदि 15 – 18 का हो जाए, फिर धमकी नहीं देना। फिर तो वो भाग भी जाएगा और क्या कुछ उल्टा…सीधा भी कर लेगा। तो बडे बच्चों के साथ इस तरह का व्यवहार न करें।

जब आपके बच्चे 15, 16, 18, 20 के हो जाएं, तब वो जो गलती करें, तब आप उनको सुझाव दें उनको समझाएं कि “बेटा ये काम करोगे तो इसमें ये नुकसान है और ये काम करोगे तो इसमें फायदा है।” अब वो बुद्धिमान हो गए, बुद्धि भी चलने लग गई। उम्र भी 15-18 हो गई। शरीर में ताकत भी आगई बच्चों के । अब वो बुद्धि से हर बात को समझना चाहते हैँ तो फिर अब आपकी उनसे बुद्धि से लडाई चलेगी! अब ताकत की लडाई नहीं चलेगी। अब ताकत की लडाई बंद

आठ साल, दस साल, बारह साल के बच्चे। उनके शरीर में शक्ति कम है, आपके शरीर में शक्ति ज्यादा। छोटे बच्चों से ताकत की लडाई चलेगी।

आप उनको 2 थप्पड़ मार सकते हैं, थप्पड लगा सकते हैं’ और जो करवाना है’ वो करवा सकते है। जब तक उनकी बुद्धि कम है, जब तक उनके शरीर में शक्ति कम है, तब तक वो आपकी मार खा लेंगे, आपकी बात मान लेंगे, सह लेंगे, उनके पास और कोई दूसरा विकल्प नहीं है। अब जब बच्चे 15-18 के हो गए, उनकी बुद्धि भी चलने लग गई. और शरीर में ताकत भी आ गई।

अब अगर आप मारपीट करेंगे, तो वो भी हाथ उठाएगा। बेटा भी हाथ उठाएगा। इसलिए 15 के बाद फिर मारपीट नहीं करना और धाक-धमकी नहीं करना। अब शरीर से ताकत की लडाई बंद और दिमाग की लडाई शुरू। अब दिमाग से लडिए। बडा बच्चा/युवक आपके सामने तर्क उठाएगा, बहस करेगा, ये काम क्यों करें, हमको अच्छा नहीँ लगता है, हम नहीँ करना चाहते। आपको ये समझाना होगा, कि “ये काम इसलिए करना है, क्योकि इसमें ये फायदा है। और ये काम इसलिए नहीं करना है क्योंकि इसमें ये नुकसान है l”

अगर आप बड़े बच्चे को नियंत्रित करना चाहते हैं, तो आपको हानि और लाभ समझाने पड़ेगे। जिस काम को आप बच्चों से करवाना चाहते हैं, उस काम के लाभ उनको समझाएं I एक कागज पर लिस्ट बनाएं, कि इस काम को करने से क्या-‘क्या लाभ है, वो लिस्ट उनको पकडा दें। और उनको कह दें, इसको रोज पढो! एक…दो महीना पढने से दिमाग में बैठ जाएगा, कि इस काम के करने से ये फायदा है। अगर उसको फायदा समझ में आ गया, तो वो काम करेगा। और जिस गलत काम से इसको रोकना चाहते हैं, उसकी एक लिस्ट बनाएं और उसमें टाईटल लिखें कि इस गलत काम को करने से ये-ये हानि है। वो सारी हानिया लिखकर के उसको दे दीजिए और कहिए, उसको एक-महीना दो महीना रोज पढो। बस और कुछ नहीं करना, हानि और लाभ समझाना हैं। अगर आपका बच्चा पढ़ा मढा-लिखा है, बुद्धिमान है, और यदि दो दो महीना उस लिस्ट को पढ लेगा तो जिस काम के लाभ वो पढ लेगा, उसको समझ में आ जाएगा। वो बच्चा उस काम को करेगा। और जिस काम की हानियां बतायी जाएंगी और दो महीना पढने से उसके दिमाग में वो हानियां बैठ जाएंगी, तो उस काम को वह नही करेगा। इस प्रकार से बड़े बच्चों को नियंत्रित करने का ये उपाय है

ध्यान दें :- ये लेख स्वामी विवेकानंद परिव्राजक जी के पर्वचनों से लिया गया है, ओउम नमस्ते

इसे भी पढ़िए:- गर्मी से बचने के तरीके 

early childhood education, children education , early childhood development , early childhood education courses

सालूमरदा थिमक्का 384 बरगद के पेड़ लगाने वाली महिला

Saalumarada Thimmakkaपेड़ लगाये अपनी धरती माता को बचाइये। आज इंसान इतना अधिक स्वार्थी हो गया है की पेड़ो को काटने में एक क्षण की देरी नहीं करता। जन्हा कोई पेड़ो को काटने में देरी नहीं करता वँहा ऐसे इंसान भी है जो पेड़ो को इस प्रकर्ति को बचाने के लिए अपना पूरा जीवन लगाते है।

आज इस लेख के माध्यम से हम आपको एक एसी महिला के बारे में बता रहे है जिसने खूब पेड़ लगाये है जिन्हें प्रकर्ति से खूब प्यार है।

सालूमरदा थिमक्का ये नाम है उस माहाँन महिला का जिन्हें पेड़ो से काफी लगाव है। ये महिला कर्नाटक की है और इन्होंने अपने राज्य के हुलुकल से कुडूर के बिच 4 किलोमीटर के मार्ग पर 384 बरगद के पेड़ लगाये है।

इन्हें अनेको अवार्ड मिल चुके है उन्हें. 1995 में नेशनल सिटीजन्स अवार्ड और 1997 में इंदिरा गाँधी प्रियदर्शिनी वृक्षमित्र अवार्ड और वीरचक्र प्रशस्ति अवार्ड. मिल चुके है।

इन्हें सम्मानो से कोई लगाव भी नहीं है इन्हें तो प्रकर्ति से प्यार है। और दुसरो की ख़ुशी में अपनी ख़ुशी समझती है। ईश्वर इन्हें लम्बी आयु दे ताकि ये इस धरती माता की और सेवा कर सके

Saalumarada Thimmakka, सालूमरदा थिमक्का, बरगद का पेड़, nature in hindi

गर्मी से बचने के ये घरेलु उपाय नहीं जानते होंगे आप

summer season in hindisummer season से बचने के उपाय क्या आप भी ये उपाय जानना चाहते है तो इस लेख को ध्यान से पढ़िए, इस समय सूर्य अपने परचंड रूप में है, अभी ये मई का महिना चल रहा है अभी इतनी ज्यादा गर्मी है तो आगे आने वाले समय में और भी ज्यादा गर्मी पड़ेगी, गर्मी से सभी परेसान है चाहे तो इन्सान हो या पशु पक्षी सभी summer season से बचने के उपाय ढूंढते रहते है!

गर्मी के दिनों में जो जब गरम हवा चलती है तो उसे लू बोलते है यदि ये लू ये गरम हवा किसी को लग जाये तो उसे उलटी दस्त जैसे रोग होजाते है, ये रोग एसे है जिनके कारण शारीर का पानी खतम होजाता है! और ये जानलेवा होता है यदि किसी को summer season से बचने के सही तरीकों के बारे में न पता हो तो उसका स्वस्थ रहना मुश्किल है!

यदि आप गर्मी के मोसम में थोडा समझदारी से काम लेवे तो आप इस भयंकर गर्मी से बच सकते है, आज इस लेख में आप एसे घरेलु नुस्खे पढेंगे जिनसे आप अपने को और अपने मित्रो को गर्मी से बचने की सही सलहा दे सकते है,

summer season गर्मी से बचने के घरेलु नुस्खे

1:- खरबूजे से गर्मी दूर भागे

गर्मियों में खरबूजा प्रकृति का अनमोल उपहार है आप जानते ही है की खरबूजे और तरबूज में पानी की अधिकता होने के कारण ये हमारे शारीर में पानी की कमी नहीं होने देता, इसीलिए आपको गर्मियों में खरबूजा जरुर खाना चाहिए यदि आप थोडा समझदारी से काम लेवें तो आप स्वस्थ रह सकते है, और गर्मी से अपने को बचा सकते है इसी परकार आप तरबूज का भी सेवन कर सकते है इन दोनों का एक जैसा ही फायदा आपको मिलेगा !

सावधानी :- तरबूज या खरबूजा खाने के बाद पानी कभी भी न पिए वरना आपको हैजा जरुर होगा और ये अच्छा नहीं है !

2:- नारियल पानी के फायदे

नारियल पानी पिने में जितना स्वादिष्ट होता है उतने ही इसमें गुण होते है, गर्मियों में नारियल पानी आपके लिए अमृत है, नारियल पानी को आप जरुर पीजिये और गर्मियों में स्वस्थ रहिये !

3:- मुल्तानी मिट्टी से नहाने के फायदे

मुल्तानी मिट्टी भी इश्वर की एक अनमोल देन है, मुल्तानी मिट्टी से आपको बर्फ जैसी ठंडक मिल सकती है ! यदि आप मुल्तानी मिटटी का पर्योग सही से करना सिखले तो आप गर्मियों के महीने को ठीक से काट सकेंगे ! एक किलो मुल्तानी मिट्टी लीजिये और उसे किसी मिटटी के बर्तन में भिगो दीजिये अब 12 घंटो बाद ये मिट्टी सही फुल जाएगी इसमें पानी मिलकर इसे थोडा गाढ़ा कर लीजिये अब इसे पुरे शारीर पर अच्छे से लगा लीजिये और सूखने तक का इंतजार कीजिये 30 मिनट इसके बाद ठंडे पानी से नाहा लीजिये, इसके बाद आप काफी ठंडा ठंडा महसूस करेंगे !

4:- जों का सत्तू

जों के सत्तू की तासीर ठंडी होती है आप गर्मियों में जों का सत्तू रोज पीजिये और इससे ठंडक पिये, आप इसमें चने का सत्तू भी मिलकर पि सकते है !

5:- आम का पन्ना

आम का पन्ना आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद है, आम का पन्ना की तासीर ठंडी होती है वेसे तो इसे कच्चे आम को उबाल कर उसमें ठंडा पानी खांड आदि मिलाकर पिया जाता है पर आप इसे बना बनाया भी खरीद सकते है बाबा रामदेव की पतंजली कम्पनी ये बनती है इसके 2 ढकन एक गिलास पानी में मिलाकर पीजिये काफी अच्छा टेस्ट है !

दोस्तों उमीद है आपको ये लेख पसंद आया होगा यदि आपको कुछ अच्छा सिखने को मिला तो अपने मित्रो के साथ शेयर करना ना भूले ! ओउम नमस्ते

काला नमक के लाभ

keywords:- Summer Safety Health Care Tips In Hindi, tips to fight summer in hindi, summer season tips in hindi, garmi se bachne ke upay, garmi se bachne ke tips, garmi se bachne ke nuskhe in hindi

black salt benefits kala namak in hindi – काला नमक के लाभ

black salt benefits in hindiblack salt benefits (kala namak) खाएं और स्वस्थ रहे एसा काहा जाये तो कुछ गलत ना होगा । भारत में इस black salt काले नमक से सभी परिचित होंगे । भारत में इस black salt का इस्तेमाल मसाले के रूप में किया जाता है । इस काला नमक की खूबी हे की इसका जिस भी चीज में इस्तेमाल किया जाता है ये उसका स्वाद बढ़ा देता है। black salt सिर्फ स्वाद ही नहीं बढाता ये हमारी health को भी सही रखता है । आम तोर पर भारत में इसका इस्तेमाल सलाद , दही, छाछ, पानी आदि में किया जाता है । ये namak भारत, पाकिस्तान, एशिया देशों में मुख्य रूप से इस्तेमाल किया जाता है । इस kala namak को rock salt भी कहा जाता है । यदि हमें इसका सही से इस्तेमाल करना आजाये तो हम इसका अच्छे से फायदा ले सकते है ।

black salt benefits kala namak ke fayde in hindi

black salt benefits की बात की जाये तो ये आपके स्वास्थ्य के लिए तो फायदेमंद है । भारत में सदियों से लोग इसके फायदे के बारे में जानते है । और सदियों से ही इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है । जितना पहले इसका इस्तेमाल किया जाता था उतना ही आज भी किया जाता है । इस rock salt में vitamin और iron काफी अधिक होता है

काले नमक का पानी बनाने की विधि

एक गिलास गरम पानी लीजिये और इसमें थोडासा काला नमक मिला दीजिये और ठंडा होने के लिए छोड़ दीजिये फिर इसे पानी को पीजिये ।

black salt water health benefits in hindi

ये काला नमक का पानी भोजन को सही पचाता  । इस पानी को पिने से मुह में लार अधिक बनती है और ये लार ही भोजन को पचाने का काम करती है । यदि आपका भोजन सही पचता है तो आपका पेट ठीक रहेगा और जिसका पेट ठीक है उसे कोई भी रोग नहीं होसकता । क्योंकि पेट ठीक रहने से कब्ज भी नहीं रहती ।

काला नमक खाने का स्वाद बढ़ाये ।

black salt को आप चपाती, सलाद, आचार, फल, और पानी में मिलकर इस्तेमाल कर सकते है और इनका टेस्ट को गुण बढ़ा सकते है । इस kala namak को शाकाहारी व्येक्ती ही ज्यादा इस्तेमाल करते है । शाकाहारी व्येक्ती ही इसके स्वाद को जानता है । गर्मियों में ये शरीर में नमक की कमी नहीं होने देता । गर्मियों में पसीना अधिक आता है तो शारीर में नमक की कमी होजाती है । इसीलिए इसे पानी में घोलिये और स्वस्थ रहिये ।

काला नमक त्वचा के लिए फायदेमंद ।

काला नमक आपकी तवचा के लिए भी काफी फायदे का है ये आपकी तवचा की चमक को बनाये रखता है । जो व्येक्ती इसका इस्तेमाल करते है उन्हें ज्यादा त्वचा रोग नहीं सताते ।

काला नमक शरीर की खुजली को दूर करे

काफी व्येक्ती खुजली के रोग से दुखी रहते है । इसे व्येक्तियों के लिए ये काफी फायदेमंद है । आप खुजली में इसका इस्तेमाल एसे कीजिये जब भी आप नहाये तो पानी में इसे मिला लीजिये और फिर इस पानी से नाहीये आपको काफी अच्छा फायदा होगा ।

black salt good for weight loss / मोटापा कम करे काला नमक

यदि आप अधिक मोटे है और शारीर में अधिक चर्बी होगी । यदि आप रोज काला नमक खाते है तो आपके शारीर में चर्बी जमा नही होगा जिससे आपका मोटापा नहीं बढेगा । जिनका मोटापा बढ़ा हुआ है उनकी चर्बी घटने लगेगी ।

नींद भी अच्छी आती है ।

यदि आपको नींद सही नहीं आती तो ये black salt इस रोग को दूर करेगा । इस kala namak में इसे तत्व होते है जो आपकी तंत्रिकाओं को शांत करते है जिसके कारण आपको नींद भी अच्छी आने लगती है । और यदि आपको नींद अच्छी आती है तो आपक काफी सारे खतरनाक रोगों से दूर रहेंगे ।

17 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे 

keyword:- kala namak benefits in hindi, black salt good for weight loss, black salt reduce weight, kala namak, kala namak ke fayde

health tips 17 आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे स्वास्थ्य के लिए

health tips in hindihealth tips in hindi दोस्तों आज इस लेख में काफी सारे अलग अलग बीमारियों के घरेलु नुस्खे दिए गए है इन health tips को इस्तेमाल कर अप healthy life जी सकते है इस लेख में बिलकुल आसान से health tips दिए गए है आप इन्हें आसानी से प्रयोग कर सकते है दोस्तों यदि आपको ये tips अच्छे लगें तो अपने मित्रो के साथ भी ये health tips in hindi लेख को शेयर जरुर करें

top 17 health tips in hindi

1:- अजीर्ण भूख कम लगना

एक प्याज काटलें और उसपर सेंधा नमक और निम्बू लगाकर सेवन करें एसा करने से भूख अच्छी लगेगी

2:- एलोवेरा से मोटापा कम करें

रोज एलोवेरा का जूस पिने से वजन कम होता है और मोटापा नहीं बढ़ता है एलोवेरा के सेवन से आप का शरीर स्वस्थ रहता है और पेट सही रहता है

3:- तरबूज health tips in hindi

  • तरबूज हमारे शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है और भोजन अच्छा पचता है और हमारी अंतो को शक्ति देता है
  • तरबूज में एक तत्व लाइकोपीन पाया जाता है जो आपकी त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होता है इसीलिए गर्मियों में तरबूज जरुर खाएं
  • तरबूज खाने से आपका कोलेस्ट्राल नियंत्रित होगा और ये आपके ह्रदय को भी मजबूती देगा

4:- घाम घमोरियों का इलाज

गर्मियों मेंहमेसा सूती और ढीले वस्त्र ही पहनने चाहिए जब भी बहार से आयें तो स्नान जरुर करलें और नारियल तेल मेंकपूर मिलाकर पुरे शरीर पर लगालें गर्मियों में सिंथेटिक के कपड़े ना पहने इन कपड़ों से घमोरियां बढती हैं

5:- खरबूजा

खरबूजे में एंटीआक्सीडेंट और विटामिन c काफी मात्रा में पाया जाता है और ये पानी का भी अच्छा स्त्रोत है लगभग 95% इसमें पानी ही होता है इसमें एसे तत्व है जो आपकी बॉडी के लिए अच्छे है

6:- अमरुद

  • अमरुद खाने में जितना अच्छा है उतने ही इसमें गुण है अमरुद मधुमेह के रोगियों के लिए भी लाभदायक है ये फाइबर का अच्छा स्त्रोत है जो आपकी रक्त शर्करा को कम करता है
  • अमरुद में विटामिन c भी काफी ज्यादा है इसमें विटामिन c की मात्रा संतरे से चार गुना ज्यादा है
  • जिनको thyroid का रोग है उनके लिए ये अमरुद काफी फायदेमंद है

7:- लू से बचने के लिए health tips

गर्मियों में जब हवा चलती है तो वो गर्म होती है जिसे लू कहते है इससे बचने का उपाय आपको पता होना चाहिए जब भी घर से निकले तो सर पर कपड़ा जरुर रखें और ठंडाई, गन्ने का रस, निम्बू पानी पीजिये, आम का पन्ना पीजिये और खूब सारा पानी पीजिये

8:- खीरा

गर्मियों में खीरा खूब खाएं खीरा खाने से पेट ठीक रहेगा और पेटका कोई भी रोग नहीं सताएगा ये खीर आपके शरीर से विशेले तत्व को बाहार निकालेगा इसलिए गर्मियों में रोज खीरे खाइए

9:- गन्ने का रस

गन्ने का रस गर्मियों में आपका मित्र है ये गन्ने का रस आपको शीतलता प्रदान करता है ये आपकी बॉडी के लिए काफी उपयोगी है ये मूत्र जलन को भी रोकता है और आपको ताकत भी देता है इसीलिए रोज 1 गिलास गन्ने का जूस पीजिये

10:- मुलहठी

यदि आपको धुम्रपान की आदत है और आप इस धुम्रपान की आदत को छोड़ना चाहते है और छोड़ नहीं पारहे तो ये मुलहठी आपकी मदद कर सकती है आपको बस ये करना है जब भी धुम्रपान की इच्छा हो तो मुलहठी का एक टुकड़ा चूसिये धीरे धीरे आपकी धुम्रपान की आदत छुट जाएगी

11:- बड़ी इलायची

यदि आपकी शरीर में दर्द रहता है तो बड़ी इलायची इसमें आपकी काफी सहयता कर सकती है बस आपको ये करना है 2 बड़ी इलायची का चूर्ण पानी में मिलाकर दिन में 3 बार पीजिये एसा करने से आपको शरीर के दर्द से छुटकारा जल्दी ही मिलेगा

12:- अस्थमा का उपचार

प्याज का रस अदरक का रस आधा आधा चम्मच ले लें और इसमें तुलसी के 4 पत्तों का रस और 1 चम्मच शहद मिलाकर रोज सुबह शाम लेने से अस्थमा का रोग दूर भागता है जिनको शुगर है वो शहद का सेवन ना करें

13:- गेंदे का फुल मच्छरों को दूर रखे

जी हाँ गेंदे का फुल मच्छरों को दूर रखता है यदि आप अपने बालकनी में गेंदे के फुल लगायेंगे तो इसके आपको दो फायदे होंगे एक तो मच्छर नही आएंगे और दूसरा फूलों की ताजा ताजा खुशबु आपको मिलेगी इसलिए गेंदे के फुल जरुर लगाने चाहियें

14:- गठिया

यदि आपको गठिया का रोग है तो आप ये नुस्खा आजमा कर देखिये आपको फायदा होगा आधा चम्मच सुखी अदरक का चूर्ण इसको सोंठ भी काहा जाता है इसे रोज गुनगुने पानी के साथ या फिर गर्म दूध के साथ लीजिये इस घरेलू नुस्खे को आजमा कर देखीय गठिया का रोग ठीक होगा

15:- पुदीना

पुदीने को यदि गर्मियों का अमृत कहा जाये तो गलत ना होगा गर्मियों में पुदीना आपको आसानी से मिलजायेगा ये पुदीना आपके लिए काफी लाभदायक है आप ये प्रयोग करके देखें थोड़े से पुदीने को पानी में पिस लें और इसमें थोडा सा भुना हुआ जीरा लें नीबू का रस और नमक भी लें इनको पानी में मिलाकर पीजिये इस नुस्खे से आपको पेट से सम्बन्धित कोई रोग नही होगा और आपका पेट स्वस्थ रहेगा

16:- बहुमुत्रता यानि अधिक पेशाब आना health tips

रोज एक गिलास दूध में 2 छुहारे उबाल लें और इन्हें खाकर उपर से इस दूध को पीजिये इस घरेलू नुस्खे से आपको अधिक पेशाब का रोग नहीं सताएगा

17:- आँखों की देखभाल के लिए health tips

आज आँखों के रोग अधिकतर सभी को है कम्पुटर पर अधिक बेठना फोन का अधिक इस्तेमाल करना और प्रदूषण के कारण भी आपकी आंखे खराब हो जाती है आँखों के रोगों से बचाव के लिए रोज हरी सब्जिया खाइए गाजर खाइए सेब संतरे खाइए और कम्पुटर पर काम करते समय आँखों को ज्यादा झपकिये और कटोरी में ठंडा पानी लेकर उसमें आँखों को डुबाने से आपकी आँखे स्वस्थ रहेंगी ये घरेलु उपचार आँखों के लिए जरुर आजमा कर देखिये काफी लाभ होगा

दोस्तों उमीद है की आपको ये hindi health tips पसंद आयी होंगी यदि आपको ये घरेलु नुस्खे पसंद आये तो हमारे फेसबुक के पेज को भी लाइक कीजिये और फेसबुक पर हमारे दोस्त बनिए https://www.facebook.com/maabharti 

heart problems के कारण और इलाज

tag:- health tips hindi,  hindi health tips, only my health in hindi, ayurveda hindi, good health tips in hindi, health care in hindi, health news in hindi, घरेलू नुस्खे, आयुर्वेदिक उपाय, घरेलू उपचार, आयुर्वेदिक उपचार

heart problems के कारण और इलाज इन आसान घरेलु तरीको से

heart problems से सम्बन्धित रोग काफी प्रकार के होते है। परन्तु आज ज्यादातर व्येक्ती ये ही मानते है की जब हमारे heart problemsheart को खून पोहचाने वाली रक्त धमनियां रुक जाती है। यानिकी उसमें रक्त गाढ़ा हो जाता है तो heart attack जेसी परेशानी खड़ी हो जाती है लेकिन आम आदमी ये नहीं जनता की ये heart problems कई प्रकार की हो सकती है। जिसके कारन Heart diseases और परेशानी अलग अलग तरीके की हो सकती है हमें चाहे किसी भी तरीके की Heart diseases हो उसमें आज की हमारी दिनचर्या का काफी योगदान है। जिसके कारण हमें ये heart problems होती है यदि हम अपने खाने पिने में और अपनी दिन चर्या में बदलाव कर सके तो हम सभी परकार की heart problems से बच सकते है और healthy life जी सकते है। सबसे पहले तो आपको ये जानना होगा की ये heart problems होती किन कारणों से है हमें इन कारणों को दूर करना होगा जिससे गलत दिनचर्या के side effect से बचा जसके तो आइये जानते है वो कारण जिनके side effect के कारण हमें ये heart problems होती है।

heart problems होने के कारण जिनसे heart attack होता है।

1:- फास्ट फूड का नुकसान / harmful effects of fast food in hindi

fast food चाहे खाने में कितना भी अच्छा लगता हो पर इसके side effect Heart diseases को बिलावा देते है। और आप रोगी हो जाते है ये फास्ट फूड सिर्फ हमें नुकसान ही देता है। ये हमें रोगी करदेता है ये हमारे शरीर के लिए इतना खतरनाक है की इसे एक तरीके का जेहर ही बोला जाये तो गलत नहीं होगा आज हम जिसे भी देखते है वो ही इस जेहर के पीछे भाग रहा है यदि आप फास्टफूड खाते है तो आपको पक्का 100% शुगर, दिल का रोग और भी खतरनाक बीमारी होंगी यदि आप स्वस्थ रहना चाहते है तो आज से ही इसे त्यागे और स्वस्थ रहे।

2 :- धुम्रपान के नुकसान / tobacco smoke harms in hindi

धुम्रपान की आदत आज काफी व्येक्तियों में देखि जाती है धुम्रपान की आदत आदमी ओरत दोनों में ही देखि जाती है। और इसके नुकसानदायक प्रभाव भी सभी में देखे जारहे है। जानते तो सभी है की ये धुम्रपान हमारे लिए कितना नुकसानदायक है लेकिन फिर भी धुम्रपान की आदत नहीं छोड़ते जिसके परिणाम ये होते है किडनी फेल , हार्ट फैल, फेफड़े खराब और आखिर में दर्दनाक मोत यदि आप इस दर्दनाक मोत से बचना चाहते है तो इस नशे की आदत को आज ही छोड़ दें।

3 :- शराब के दुष्परिणाम

heart problems में ये शराब भी एक बड़ी समस्या है इस हार्ट रोग के लिए यदि व्येक्ती दारू पीनी नहीं छोड़ता तो Heart diseases के साथ साथ अनेको रोग उसे घेर लेते है इसीलिए आज ही इस दारु को त्याग्दिजीय।

heart attack treatment in hindi

1:- रोज सुबह खाली पेट कच्चा लहसुन खाए इससे आपके दिल को ताकत मिलेगी और कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद करेगा।

2:- रोज 1 सेब जरुर खाए इससे आपका हार्ट दिल अच्छे से काम करेगा।

3:- आंवला आपको रोज सुबह खाली पेट आंवला खाना चाहिए या आंवले का जूस पीना चैये ये आपकी बॉडी को बिलकुल स्वस्थ रखेगा और खून को गाढ़ा होने से रोकेगा और खून को साफ़ करेगा।

4:- रक्त दान 6 महीने में एक बार रक्तदान अवश्य करें जिससे आपको किसी भी प्रकार का हिरदय रोग नहीं होगा और आपका खून स्वस्थ और साफ रहेगा।

5:- रोज 1 चमच शहद की लीजिये इससे आपका दिल मजबूत रहेगा और आप स्वस्थ जीवन जियेंगे।

6:- हवन आप कमसे भी कम हफ्ते में 1 बार घर में हवन जरुर कीजिये और जब भी हवन करे तो सिर्फ देसी गायें का ही घी डालें आप स्वस्थ रहेंगे वेसे जितना प्रदूषण हम फेला रहे है उसके अनुपात में तो प्रत्यक व्येक्ती हो दोनों समय या रोज एक समय हवन जरुर करना चाहिए हवन करने से आपका तो भला होगा ही साथ में करोड़ो जीवों का भी भला होगा इसीलिए हवन जरुर करें।

7:- रोज घिया का जूस पीजिये यदि आप रोज घिया का जूस पियेंगे तो आपको कोई भी हिरदय रोग नहीं होगा।

8:- heart problems में अर्जुन की छाल का इस्तेमाल कीजिये अर्जुन की छाल हिरदय रोग को जड से खत्म करेगी रोज अर्जुन की छाल का काढ़ा बनाकर पिने से ह्रदय रोग खत्म होते है।

दोस्तों उमीद है की आपको ये लेख पसंद आया होगा दोस्तों हमारा फेसबुक का पेज भी लाइक करे इस लिंक पर क्लिक करें https://www.facebook.com/maabharti

keywords:- dil ki bimari ka ilaj in hindi, heart attack ka ayurvedic ilaj, heart attack treatment in hindi, heart attack ke symptoms in hindi, heart attack treatment at home in hindi, heart problem in hindi, heart attack in hindi